बांग्लादेश और मिजोरम की सरकारों ने कहा कि वे सीमा व्यापार की क्षमता का बढ़ाने के लिए चेक पोस्ट और सड़क संपर्क सहित बुनियादी ढांचे के निर्माण के लिए कदम उठाएंगे। बांग्लादेश के वाणिज्य मंत्री टीपू मुंशी और मिजोरम के उद्योग मंत्री डॉ आर लालथंगलियाना ने यहां प्रस्तावित सीमा व्यापार के विभिन्न मुद्दों पर एक बैठक की।

ये भी पढ़ेंः पूर्वोत्तर राज्य मिजोरम में सामने आए कोरोना के 107 मामले, एक की मौत, देखें ये रिपोर्ट


बता दें कि भारत के सिलसूरी और बांग्लादेश के सजेक के बीच हाट बाजार लगाया जा सकता है। मुंशी ने कहा कि शेख हसीना सरकार आर्थिक विकास के लिए भारत के साथ खासकर पूर्वोत्तर राज्यों के साथ बेहतर संबंध विकसित करने की इच्छुक है। उन्होंने एक संयुक्त संवाददाता सम्मेलन में कहा कि प्रस्तावित सीमा व्यापार दोनों देशों के बीच संबंधों को मजबूत करने में मदद करेगा। संयुक्त बयान में कहा गया है कि दक्षिण मिजोरम के लुंगलेई जिले के कावरपुइचुआ में आईसीपी विकसित किया जा रहा है, ताकि दोनों पक्षों के व्यापार को औपचारिक रूप देने के प्रयासों को सिंक्रनाइज़ किया जा सके।

ये भी पढ़ेंः 5 मई को मिजोरम जाएंगे राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद, विश्वविद्यालय के दीक्षांत समारोह में लेंगे हिस्सा


राज्य सरकार ने बांग्लादेश के अधिकारियों से दोनों पड़ोसियों के बीच संपर्क में सुधार के लिए पड़ोसी देश में छोटा होरिन से थेगामुख तक 17 किलोमीटर की सड़क बनाने की संभावना तलाशने का भी आग्रह किया। बयान में कहा गया है कि दोनों मंत्रियों की बैठक के दौरान, दोनों पक्ष व्यवहार्य स्थानों पर महत्वपूर्ण व्यापार बुनियादी ढांचे की स्थापना के माध्यम से एक संपन्न सीमा व्यापार व्यवस्था की क्षमता को भुनाने का प्रयास करने पर सहमत हुए।