असम राइफल्स की लुंगलेई बटालियन ने मिजोरम के वासेइकाई गांव के लोंगपुईघाट से 136 किलोग्राम गन पाउडर बरामद किया है। मुख्यालय महानिरीक्षक असम राइफल्स (पूर्व) के नेतृत्व में चलाए गए ऑपरेशन में यह कामयाबी मिली। दरअसल, पिछले कुछ दिनों से असम राइफल्स ने तस्करी गतिविधियों के खिलाफ अभियान चलाया हुआ है।

विशेष सूचना के आधार पर पुलिस टीम के साथ असम राइफल्स के एक संयुक्त दल ने ऑपरेशन को अंजाम दिया। बरामदगी के सिलसिले में असम राइफल्स के जवानों ने एक शख्स को भी गिरफ्तार किया है। गिरफ्तार शख्स को आगे की कानूनी कार्यवाही के लिए वसूली के साथ-साथ पुलिस स्टेशन वसीकाई को सौंप दिया गया है। अवैध माल की तस्करी मिजोरम राज्य के लिए चिंता का एक प्रमुख कारण है। असम राइफल्स, जिसे ‘पूर्वोत्तर के प्रहरी’ के नाम से जाना जाता है, ने मिजोरम में तस्करी गतिविधियों के खिलाफ इस तरह के अभियान शुरू करने में सफल रही है।

कुछ दिनों पहले ही अरुणाचल प्रदेश के चांगलांग जिले में भारत-म्यांमार सीमा पर असम राइफल्स जवानों की नेशनल सोशलिस्ट काउंसिल ऑफ नागालैंड (केवाईए) के संदिग्ध उग्रवादियों के साथ मुठभेड़ हुई थी। मुठभेड़ में असम राइफल्स का एक जवान शहीद हो गया, जबकि दो अन्य घायल हो गए। शहीद जवान की पहचान राइफलमैन अवतार चकमा के रूप में हुई है। दोनों घायल जवान खतरे से बाहर हैं।

अरुणाचल प्रदेश पुलिस के अधिकारियों ने घटना की पुष्टि की। पुलिस के अनुसार, लोंगवी गांव के पास सशस्त्र आतंकवादियों की मौजूदगी के बारे में एक गुप्त सूचना मिली थी। इस पर कार्रवाई करते हुए असम राइफल्स के जवानों ने शनिवार सुबह एक तलाशी अभियान चलाया। इसी दौरान चरमपंथियों ने जवानों पर गोलीबारी शुरू कर दी, जिसके बाद जवानों ने भी जवाबी कार्रवाई की।