आइज़ोल। मिजोरम के साकावर्तुइचुन इलाके में साल 2022 के अंत में राज्य के इतिहास में एक नया अध्याय लिखा गया। पहली बार, रेबेका लालरुतकिमी, एक अकेली महिला, को यंग मिज़ो एसोसिएशन (YMA) की शाखा अध्यक्ष के रूप में चुना गया। 

इसके साथ, लालरुतकिमी YMA इकाई की केवल दूसरी महिला अध्यक्ष बनीं। साल 2010 में, टेरेसा रोथंगपुई को सैरांग इलाके के YMA अध्यक्ष के रूप में चुना गया, जो YMA की पहली महिला अध्यक्ष बनीं। लालरुआत्किमी दूसरी महिला अध्यक्ष हैं और इस पद के लिए चुनी जाने वाली पहली अकेली महिला हैं।

केंद्र से किया म्यांमार वायु सेना पर कार्यवाई की मांग

NGO कोऑर्डिनेशन कमेटी (NGOCC), मिजोरम में प्रमुख स्वैच्छिक संगठनों, सिविल सोसाइटीज और छात्र निकायों के एक समूह ने केंद्र से "म्यांमार वायु सेना द्वारा भारतीय हवाई क्षेत्र के उल्लंघन" पर सक्रिय कार्रवाई करने का आग्रह किया। केंद्रीय सशस्त्र पुलिस बल (CAPF) के अधिकारियों ने कहा कि 10 और 11 जनवरी को उस देश में आतंकवादियों के शिविरों पर म्यांमार की सेना के बमबारी के बाद भारतीय क्षेत्र अप्रभावित रहा। 

भारत-म्यांमार सीमा पर रहने वाले ग्रामीणों ने पहले दावा किया था कि मिज़ोरम की ओर से तियाउ नदी के पास एक बम गिरा दिया गया था। नदी दोनों देशों को विभाजित करती है। ग्रामीणों के अनुसार, एक ग्राम परिषद के सदस्य के स्वामित्व वाले एक ट्रक को विस्फोट में क्षतिग्रस्त कर दिया गया है जब वह नदी की रेत ले जा रहा था।