मिजोरम में बुधवार को कोरोना वायरस के कारण पहली मौत हुई। यह अब तक एकमात्र ऐसा राज्य था जहां संक्रमण के कारण किसी की जान नहीं गई थी। एक स्वास्थ्य अधिकारी ने बताया कि 62 वर्षीय व्यक्ति ने आइजोल के पास एक अस्पताल में संक्रमण के कारण दम तोड़ दिया।

अस्पताल के चिकित्सक अधीक्षक डॉ. एचसी लालडिना ने बताया कि मरीज का सरकारी जोराम मेडिकल कॉलेज में 10 दिनों से इलाज चल रहा था। उन्होंने बताया कि आइजोल का रहने वाला मरीज दिल संबंधी बीमारी से भी पीड़ित था। मिजोरम में संक्रमण का पहला मामला 24 मार्च को रिपोर्ट हुआ था। राज्य में 26 अक्टूबर से ' कोविड-19 सहनशील नहीं पखवाड़ा ' चल रहा है जबकि आइजोल के नगर निकाय इलाके में स्थानीय तौर पर संचरण के मामलों को रोकने के लिए लॉकडाउन लगाया गया है।

राज्यव्यापी अभियान नौ नवंबर तक चलेगा, जबकि आइजोल से तीन नवंबर सुबह साढ़े चार बजे लॉकडाउन खत्म किया जाना है। स्वास्थ्य अधिकारियों ने बताया कि एक अक्टूबर से कोविड-19 के 34 फीसदी मरीज ऐसे थे जिनमें कोई लक्षण नहीं थे। मिजोरम में बुधवार को कोरोना वायरस से संक्रमित 80 और मरीजों की पुष्टि हुई। इनमें 27 स्कूली छात्र और 11 सैन्य कर्मी शामिल हैं। इसके बाद कुल मामले 2607 पर पहुंच गए हैं हालांकि इसमें से 2,212 कोरोना मरीज ठीक होकर घर लौट चुके हैं।