पूर्वोत्तर के की राज्यों में कोरोना के साथ साथ अफ्रीकन स्वाइन फ्लू ने भी दस्तक दी है। इसके कारम से अब तक ढाई हजार से ज्यादा सुअरों की मौत हो चुकी है। असम सरकार ने इसके लिए खास तौर से सुअर पालन करने वाले मजदूरों को सचेत किया है कि सुअरों को अलग अलग रखा जाए और बिमार सुअरों को मारे नहीं इलाज कराएं।


इसी बारे में मेघालय के उपमुख्यमंत्री प्रस्टोन तिनसॉन्ग ने जानकारी दी कि राज्य में अफ्रीकी स्वाइन बुखार का फिलहाल कोई मामला नहीं है। परीक्षण के लिए भेजे गए आठ परीक्षण नमूनों की रिपोर्ट नेगेटिव आई है। प्रस्टोन ने बताया कि परीक्षण के लिए कुल 25 नमूने भेजे गए थे। उन्होंने कहा कि सूअर किसी स्थानीय फ्लू से पीड़ित हो सकते हैं लेकिन फिलहाल तक राज्य अफ्रीकी स्वाइन बुखार से मुक्त है।


उल्लेखनीय है कि असम और अरुणाचल प्रदेश में अफ्रीकी स्वाइन बुखार के मामलों के तुरंत बाद राज्य सरकार ने राज्य के बाहर से सूअरों के आयात पर बैन लगा दिया है और बाद में बिक्री पर भी बैन लगा दिया है। पशु चिकित्सा विभाग हाई अलर्ट पर है और राज्य में फैले सभी पिगमेंटरी फार्मों को निर्देश दिया गया है कि अगर कोई भी ऐसा मामला सामने आता है तो तुरंत सूचित करें।