मेघालय द्वारा असम के खानापारा इलाके में ड्रोन का इस्तेमाल कर सीमा सर्वेक्षण से स्थानीय लोगों में भ्रम की स्थिति पैदा हो गई। शनिवार को हुई इस घटना से पूर्वोत्तर के दो पड़ोसी राज्यों में तनावपूर्ण स्थिति पैदा हो गई।

असम सरकार के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि कामरूप मेट्रोपालिटन जिले के अधिकारियों के हस्तक्षेप के बाद स्थिति सामान्य हुई। कामरूप मेट्रोपॉलिटन उपायुक्त बिस्वजीत पेगू ने बताया कि शुक्रवार को हुई बैठक में ड्रोन और अन्य साधनों से संबंधित राज्यों और सीमाओं का सर्वेक्षण करने का निर्णय लिया गया।

उन्होंने कहा कि स्थानीय निवासियों के बीच कुछ भ्रम था और वे (सर्वे से) उत्तेजित हो गए। उन्होंने कहा, जिला प्रशासन के अधिकारियों ने हस्तक्षेप कर उन्हें मामला समझाया।

पेगू ने कहा कि जिला प्रशासन द्वारा मेघालय के अधिकारियों से शुक्रवार की बैठक के मिनट्स उपलब्ध होने तक प्रतीक्षा करने का अनुरोध करने के बाद गतिविधि को फिर से शुरू करने से पहले सर्वे का काम कुछ समय के लिए निलंबित कर दिया गया है।

उन्होंने कहा कि हमने सैद्धांतिक रूप से इसकी (सर्वे) अनुमति दी है। दोनों राज्यों के बीच सीमा विवाद आम है, 26 जुलाई को इस तरह की नई घटना की सूचना दी गई थी जब असम ने खानापारा क्षेत्र में मेघालय के अधिकारियों द्वारा अपने क्षेत्र के अंदर बिजली के खंभे लगाने के एक कथित प्रयास को विफल कर दिया गया।

असम और मेघालय के मुख्यमंत्रियों ने शुक्रवार को यहां बैठक के दौरान सीमा मुद्दों पर चर्चा की थी, जो 23 जुलाई को शिलांग में इसी तरह की बैठक के बाद हुई थी।