गुवाहाटी। असम-मेघालय सीमा के विवादित क्षेत्र में भारी सुरक्षा बल तैनात किया गया है और धारा 144 लागू की गई है। मालूम हो कि सीमा पर हाल में हिंसक झड़पों के बाद 6 लोग मारे गए थे। अधिकारियों ने बताया कि दोनों राज्यों के बीच यात्रा प्रतिबंध रविवार को लगातार छठे दिन भी जारी रहा। मंगलवार को हुई इस घटना के बाद असम पुलिस ने लोगों से पड़ोसी राज्य की यात्रा करने से बचने को कहा है।

यह भी पढ़ें- त्रिपुरा के उप-मुख्यमंत्री ने केंद्र से राज्य में एम्स जैसे संस्थान स्थापित करने की मांग की

एक पुलिस अधिकारी ने कहा, मेघालय में अभी भी स्थिति पूरी तरह शांतिपूर्ण नहीं है। असम से लोगों या वाहनों पर हमले हो सकते हैं। इसलिए, हम लोगों से उस राज्य की यात्रा नहीं करने के लिए कह रहे हैं। उन्होंने कहा कि अगर किसी को यात्रा करनी ही है तो हमने उन्हें मेघालय में पंजीकृत वाहनों से जाने को कहा है।

गुवाहाटी और कछार जिले के जोरबाट में पुलिस बैरिकेड्स लगाए गए हैं, जो असम से मेघालय में प्रवेश के दो मुख्य बिंदु हैं। अधिकारी ने कहा कि ट्रकों, सामान और अन्य सामान ले जाने वाले वाणिज्यिक वाहनों पर हालांकि कोई प्रतिबंध नहीं लगाया गया है। संघर्ष स्थल और आस-पास के इलाकों में सीआरपीसी की धारा 144 के तहत प्रतिबंध जारी है।

पश्चिम कार्बी आंगलोंग जिले में दोनों राज्यों के बीच विवादित सीमा के पास मुकरोह गांव में मंगलवार की तड़के हिंसा भड़क गई थी, जब असम के वन रक्षकों द्वारा कथित रूप से अवैध रूप से काटी गई लकड़ियों से लदे एक ट्रक को रोका गया था।

यह भी पढ़ें- चीन का बुरा हाल कर देगी इंडिया, अरुणाचल में ऐसा बड़ा काम कर रही है मोदी सरकार

शनिवार को मेघालय में विभिन्न सामाजिक संगठनों के सदस्यों ने सीमा पर हिंसा के विरोध में केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह और मुख्यमंत्री कॉनराड के संगमा सहित अन्य लोगों का पुतला जलाया। एक अन्य सामाजिक संस्था हाइनीवट्रेप स्वदेशी प्रादेशिक संगठन ने भी शिलांग में यू सोसो थम आडिटोरियम के परिसर में 'रेड फ्लैग डे' मनाया।