देशभर में कोरोना का टीकाकरण चल रहा है। 16 जनवरी से शुरु किए गए टीकाकरण में अब तक करीब 86 लाख लोगों को कोरोना के टीके का पहला डोज दिया जा चुका है। स्वास्थ्यकर्मियों के बीच देशव्यापी कोविड टीकाकरण कार्यक्रम के राष्ट्रीय आंकड़ों से पता चला है कि महिलाएं वैक्सीन लगवाने में पुरुषों से आगे रही हैं। कोविन (CoWIN) एप्लिकेशन से निकाले गए आंकड़ों से पता चलता है कि अब तक टीका लगाने वाली महिलाओं की संख्या कई राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों के पुरुषों की तुलना में काफी अधिक है।

कोविन एप के डैशबोर्ड में दिखाया गया कि महिलाओं के टीकाकरण की प्रवृत्ति राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों में 28 में 78 फीसद के बीच रही है। इसके अलावा देश के कई हिस्सों में टीका लाभार्थियों में से दो तिहाई से अधिक महिलाओं ने वैक्सीन लगवाई है। लक्षद्वीप में महिलाओं ने 78.2 फीसद टीका लगवाया है । इसी प्रकार हिमाचल प्रदेश में इसकी गणना 75 फीसद रही, इसके बाद छत्तीसगढ़ में 74.3 फीसद, केरल में 74 फीसद, असम में 73.8 फीसद, अंडमान और निकोबार द्वीप समूह में 70 फीसद, लद्दाख में 70 फीसद, सिक्किम और मिजोरम में 70 फीसद और बिहार में 69.5 फीसद महिलाओं ने कोरोना की टीका लगवाया है। अरुणाचल प्रदेश और मेघालय में महिलाओं के बीच 61.15 फीसद आंकड़े दर्ज किए गए हैं।


 
कोरोना टीकाकरण के इन आंकड़ो को लेकर नई दिल्ली एम्स के मनोरोग विभाग के प्रोफेसर डॉ. नंद कुमार ने बताया कि इस निष्कर्ष से कहा जा सकता है हमारे यहां स्वास्थ्य विभाग में पुरुष श्रमिकों की तुलना में महिलाएं जमीनी स्तर पर अधिक संख्या में कार्यरत हैं। आशा, एएनएम, आंगनवाड़ी कार्यकर्ता सभी महिलाएं ही हैं। नर्स, स्वास्थ्य विभाग में और पैरामेडिक्स भी मुख्य रूप से महिलाएं ही हैं। इसी कारण कोविन एप के आंकड़ो में पुरुषों की तुलना में महिलाओं ने ज्यादा वैक्सीन लगवाई है।