पूर्वोत्तर सीमा रेल ने लॉकडाउन अवधि के आरम्भ यानी 25 मार्च से 30 नवम्बर, 2020 तक 6847 अदद से भी अधिक अंतर्गामी मालवाही ट्रेनों का परविहन किया। इनमें से 1102 मालवाही ट्रेनों की अनलोडिंग सिर्फ नवम्बर महीने में किया गया, जो कि एक महीने के दौरान सबसे अधिक अनलोडिंग है। यह पिछले वर्ष के संबंधित महीने के दौरान की गई मालवाही ट्रेनों की अनलोडिंग से 35.21 प्रतिशत अधिक है (नवम्बर, 2019 के दौरान पूसी रेल में 815 फ्रेट रेक अनलोड किए गए)।

साधारण लोगों की आवश्यक जरूरतों को पूरा करने के लिए तथा सभी क्षेत्रों में स्थानीय आíथक कार्यकलापों को जारी रखने के लिए एफसीआई चावल, चीनी, नमक, खाद्य तेल, पीओएल, अनाज, चारा, दाल, उर्वरक, सीमेंट, कोयला, स्टोन चिप्स, लौह/इस्पात, आलू, प्याज, बालू, जिप्सम, मक्का, दाल, ऑटो, कंटेनर इत्यादि जैसे सामानों का नियमित रूप से परिवहन गया।

नवम्बर के दौरान, असम में मालगाड़ियों की 570 रेक अनलोड किए गए, जिनमें से 301 रेक आवश्यक सामग्रियों की अनलोड की गई। पिछले महीने के दौरान 27 रेक नागालैंड में, 61 रेक त्रिपुरा में, 3 रेक मणिपुर में, 1 रेक मिजोरम में तथा 5 रेक अरुणाचल प्रदेश में अनलोड की गई। इन क्षेत्रों के लोगों की आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए पूसी रे के क्षेत्राधिकार के अंदर पिछले महीने के दौरान पश्चिम बंगाल में 243 फ्रेट रेकों तथा बिहार में 187 फ्रेट रेकों को अनलोड किया गया।

पिछले महीने के दौरान असम क्षेत्र में अनाज की 85 रेक, सीमेंट की 93 रेक, ऑटोमोबाइल की 43 रेक, चीनी की 24 रेक, विद्युत केंद्र के लिए कोयला की 27 रेक, उर्वरक की 22 रेक, खाद्य तेल की 14 रेक तथा पेट्रोलियम उत्पादों की 50 रेक अनलोड की गई। त्रिपुरा में खाद्य सामग्रियों की 15 रेक, स्टोन की 36 रेक, चीनी की 1 रेक, ऑटोमोबाइल की 2 रेक तथा उर्वरक की 1 रेक अनलोड की गई। अरुणाचल प्रदेश में एफसीआई सामग्रियों की 1 रेक तथा पेट्रोलियम उत्पादों की 4 रेक अनलोड की गई। मणिपुर में एफसीआई सामग्रियों की 1 रेक, सीमेंट की 2 रेक अनलोड की गई। मिजोरम में एफसीआई की 1 रेक अनलोड की गई। नागालैंड में एफसीआई सामग्रियों की 8 रेक, पेट्रोलियम उत्पादों की 7 रेक तथा सीमेंट की 5 रेक अनलोड की गई।

पूसी रेल के अंतर्गत आने वाले बिहार हिस्से में सीमेंट की 60 रेक, खाद्य सामग्रियं की 35 रेक, उर्वरक की 35 रेक, नमक की 16 रेक तथा चीनी की 9 रेक, स्टोन की 18 रेक, लौह/इस्पात की 12 रेक अनलोड की गई। पूसी रेल के उत्तर बंगाल हिस्से में खाद्य सामग्रियों की 43 रेक, सीमेंट की 75 रेक, उर्वरक की 41 रेक, नमक की 2 रेक, चीनी की 7 रेक तथा पेट्रोलियम उत्पादों की 26 रेक अनलोड की गई।

रखरखाव के ज्यादा प्रयास तथा सभी स्तरों पर नियमित निगरानी के कारण उन्नत टíमनल संभलाई सुविधा तथा आवागमन में सुधार के कारण अनलोडिंग में वृद्धि हुई तथा वापस आने के समय में कमी आई। पूसी रेल में माल वाही ट्रेनों की औसत गति में भी दोगुनी वृद्धि हुई है।

भारतीय रेल ने कोविड-19 महामारी की चुनौती पूर्ण समय के दौरान सभी आवश्यक सामग्रियों, जीवन रक्षक औषधियों तथा चिकित्सका उपकरणों के परिवहन के लिए निरंतर सेवाएं प्रदान करने में अत्यंत महत्वपूर्ण भूमिक निभाई। यह सुस्पष्ट है कि पूसी रेल द्वारा अनाजों, पीओएल तथा अन्य आवश्यक तथा विविध सामग्रियों के व्यापक परिवहन के कारण लॉकडाउन अवधि तथा उसके उपरात की अवधि के दौरान पूसी रेल के सेवा क्षेत्र में इस तरह की सामग्रियों की कोई कमी नहीं देखी गई।