मेघालय उच्च न्यायालय (Meghalaya High Court) ने राज्य में कोविड-19 रोगियों के इलाज के लिए निजी अस्पतालों की ओर से अत्यधिक शुल्क वसूले जाने पर शुक्रवार को विस्तृत रिपोर्ट मांगी।

मुख्य न्यायाधीश रंजीत मोरे और न्यायमूर्ति वल्ली डिएंगदोह की खंडपीठ ने मेघालय में स्वास्थ्य सेवाओं में कमियों पर स्वत: संज्ञान से संबंधित एक जनहित याचिका पर सुनवाई के दौरान ‘एमिकस क्यूरी’ टी.टी. डिएंगदोह से अनुरोध किया कि वह निजी अस्पतालों द्वारा कोरोना रोगियों से लिये जा रहे अत्यधिक शुल्क के विवरण को रिकॉर्ड में लाने के लिए हलफनामा दायर करें। इसकी प्रति महाधिवक्ता और अन्य प्रतिवादियों के वकीलों को भेजें।