रायपुर/शिलांग। मेघालय हाईकोर्ट (Meghalaya High Court) ने उस आरोपी को जमानत दे दी जिसके खिलाफ यौन शोषण के मामले (sexual abuse case) में पोक्सो एक्ट लगाया गया था। 



जस्टिस डब्ल्यू डिएंगदोह ने कहा कि प्रथमदृष्टया में यह स्पष्ट है कि दोनों के बीच रोमांटिक रिलेशन था और उनके बीच यौन संबंध बने थे। 



पीड़िता के नाबालिग होने पर सहमति की कोई कानूनी वैधता नही है। फिर भी कोर्ट द्वारा जमानत देने की याचिका पर विचार करते समय इस पहलू को नजरअंदाज नहीं किया जा सकता है।