मेघालय के राज्यपाल सत्य पाल मलिक ने कहा कि किसानों का आंदोलन अभी खत्म नहीं हुआ है और अगर सरकार न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) पर कानून नहीं लाती है तो वे किसानों से बड़ी लड़ाई होगी। यहां एक जाट समुदाय के कार्यक्रम में मलिक ने कहा कि मेघालय के राज्यपाल के रूप में अपना कार्यकाल पूरा करने के बाद वह भी आंदोलन में शामिल हो जाएंगे।

ये भी पढ़ेंः कांग्रेस निलंबित विधायक अम्पारीन लिंगदोह ने की असम मेघालय बॉर्डर सौदे पर MDA सरकार की खिंचाई


मलिक हाल के दिनों में कई बार किसानों के मुद्दों को लेकर सरकार पर निशाना साध चुके हैं। मलिक ने कहा कि किसानों का आंदोलन अभी खत्म नहीं हुआ है, सिर्फ धरना खत्म हुआ। अगर एमएसपी पर कानून नहीं बना तो किसान सरकार के खिलाफ जमकर लड़ाई लड़ेंगे। उन्होंने कहा कि मेघालय के राज्यपाल के रूप में उनके कार्यकाल के केवल चार महीने बचे हैं और अपना कार्यकाल पूरा करने के बाद वह भी आंदोलन में शामिल हो जाएंगे।

ये भी पढ़ेंः सावधान! 1 जुलाई से सिंगल यूज प्लास्टिक पर होगा बैन, यूज किया तो खैर नहीं


मलिक ने कहा कि जब किसान कृषि कानूनों का विरोध कर रहे थे, तो वह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के पास गए और उनसे कहा कि उनके खिलाफ अत्याचार हो रहा है। उन्होंने दावा किया कि उन्होंने प्रधानमंत्री को सुझाव दिया कि उन्हें इस मामले को किसानों के साथ सुलझाना चाहिए, लेकिन मोदी ने उनसे कहा कि वे खुद ही धरना समाप्त कर देंगे।