मेघालय के मुख्यमंत्री कोनराड संगमा ने कहा कि सरकार आईईडी विस्फोटों की घटनाओं से क्षतिग्रस्त हुए घरों को कुछ राहत देने की जरुरत की जांच करेगी। संगमा ने शरद ऋतु सत्र के तीसरे दिन विधानसभा में प्रश्नकाल के दौरान निलंबित कांग्रेस विधायक मजेल अम्पारीन लिंगदोह द्वारा पूछे गए सवाल का जवाब देते हुए कहा, मैंने सुझाव पर ध्यान दिया है और हम मामले की जांच करेंगे। 

ये भी पढ़ेंः मेघालय सरकार ने कैसीनो के लिए 3 फर्मों को अस्थायी लाइसेंस प्रदान किया


पूर्वी शिलांग विधानसभा क्षेत्र के विधायक ने 10 अगस्त, 2021 को शिलांग (लैतुमखरा बाजार) में ऐसे ही एक विस्फोट का जिक्र करते हुए मुख्यमंत्री से आईईडी विस्फोटों से क्षतिग्रस्त घरों को राहत देने पर विचार करने का अनुरोध किया था। लिंगदोह, जो मेघालय विधान सभा की महिला अधिकारिता समिति के अध्यक्ष भी हैं, ने सदन को सूचित किया कि विस्फोट से घटना स्थल पर घरों को व्यापक नुकसान हुआ है। 

ये भी पढ़ेंः राजपथ एक अच्छा नाम था कर्तव्य पथ एक मंत्र की तरह लगता है: मेघालय राज्यपाल


उन्होंने यह जानने की कोशिश की थी कि क्या आपदा प्रबंधन के तहत आईईडी विस्फोट को अधिसूचित किया गया है, जिस पर राजस्व और आपदा प्रबंधन के प्रभारी मंत्री किरमेन शायला ने जवाब दिया कि आईईडी विस्फोट एक ‘मानव निर्मित आपदा’ है। उन्होंने कहा कि मै ऐसा नहीं सोचता की यह आपदा प्रबंधन के तहत आता है और हमने इसके लिए कुछ नियम निर्धारित किये हैं।