देश में कोरोना के कारण हालात बहुत ही खराब होते जा रहे हैं। केंद्र सरकार कोरोना वायरस से देश को बचाने के लिए कई तरह की सुरक्षा का इंतजाम कर रही है। इसी तरह से मेघालय सरकार भी कोरोना की जंग में पीछे नहीं है। राज्य सरकार COVID-19 के खिलाफ संबंधित उपायों पर प्रति दिन 1.9 करोड़ रुपये खर्च कर रही हैं। अस्पताल का खर्च और लोगों की जरूरत को मिला कर प्रति दिन इतना खर्च होता है।


 उपमुख्यमंत्री प्रिस्टोन तिनसॉन्ग ने  कहा कि राज्य ने मार्च से सितंबर तक पिछले सात महीनों में 399 करोड़ रुपये के कोविड के खिलाफ संबंधित खर्च किए गए हैं। राज्य में विभिन्न खर्चों की जानकारी साझा करते हुए तिनसॉन्ग ने कहा कि 399 करोड़ रुपये में से, 25,000 करोड़ रुपये खर्च किए गए हैं। लेकिन फिर भी कोरोना जंग में हार नहीं मान रहे हैं।

उन्होंने बताया कि कोरोना काल में अब तक केंद्र सरकार से 48 करोड़ रुपये की सहायता मिली थी। विभिन्न प्रमुखों के लिए तिनसॉन्ग ने कहा कि राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन (एनएचएम) ने कोरोना केयर सेंटर, पीपीई, एंबुलेंस, लैब और सर्वेक्षण के लिए 188.9 करोड़ रुपये खर्च किए हैं। डीएचएस ने मशीनों, प्लाई मास्क, थर्मल स्कैनर और अन्य आवश्यकताओं की खरीद के लिए 82.4 करोड़ रुपये खर्च किया है।