असम-मेघालय के बीच 50 साल पुराना सीमा विवाद (Assam-Meghalaya border dispute) सुलझ गया है। इस सीमा विवाद को सुलझाने के लिए दोनों राज्यों की सरकारें तत्परता से काम कर रही है। 21 जनवरी को मेघालय स्थापना दिवस (Meghalaya Foundation Day) पर राज्य के मुख्यमंत्री कोनराड के. संगमा (Chief Minister Conrad K. sangma) ने कहा कि उनकी सरकार असम के साथ अनसुलझे संघर्ष को हल करने के लिए हर संभव प्रयास कर रही है। उन्होंने आगे कहा कि उनकी सरकार प्रतिबद्ध है कि आने वाले 10 सालों में मेघालय को देश के शीर्ष 10 राज्यों में स्थान मिल सके। असम के साथ सीमा विवाद पर मुख्यमंत्री संगमा ने बताया कि असम और मेघालय (Assam and Meghalaya) ने आधे विवाद (6 मुद्दे) को सुलझा लिया है, अब छह स्थानों पर इसकी संघर्ष की परस्परता काफी कम हो गई है। 

मेघालय की स्थापना दिवस के वर्षगांठ के मौके पर राज्यवासियों को संबोधित करते हुए संगमा ने कहा कि उनकी सरकार ने असम के साथ ऐतिहासिक सीमा विवाद को सौहार्दपूर्ण ढंग से हल करने के लिए उत्सुकता दिखाई है। उन्होंने यह भी बताया कि असम के मुख्यमंत्री हिमंत बिस्वा सरमा (Assam Chief Minister Himanta Biswa Sarma) के साथ अपनी आखिरी चर्चा के दौरान उन्होंने ताराबारी (नोंगलांग) क्षेत्र, गिजांग (नोंगलांग), बोकलापारा क्षेत्र, खानापारा- पिल्लंगकाटा क्षेत्र और सीमा (रातचेरा) क्षेत्र का दक्षिण-पूर्वी भाग, हाहिम (नोंग्रिआंगसिह- जिरंगम) सहित 12 में से 6 क्षेत्रों में विवाद को खत्म करने के लिए कदम बढ़ाया है। 

उन्होंने कहा, 'मेरी सरकार ने असम के साथ लंबे समय से लंबित सीमा मुद्दों को हल करने में निर्णायकता दिखाई। केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह (Union Home Minister Amit Shah) के मार्गदर्शन में और असम सरकार (Assam government) के सहयोग से हम छह प्रस्ताव पर एकमत हुए हैं। राज्य सरकार ने अगले 10 सालों में मेघालय को टॉप 10 राज्यों में शामिल होने का लक्ष्य रखा है।' अपने संबोधन में संगमा ने राज्य की स्वास्थ्य, शिक्षा और प्रौद्योगिकी सहित सभी क्षेत्रों के विकासकार्यों पर जोर दिया है। उन्होंने कहा कि वह राज्य के लोगों को एक समान और साधन संपन्न वातावरण में समृद्ध देखना चाहते हैं। 

गौर हो कि गुरुवार को असम के मुख्यमंत्री हिमंत बिस्वा सरमा और मेघालय के सीएम ने गृह मंत्री अमित शाह (Union Home Minister Amit Shah) से मुलाकात की और उन्हें क्षेत्रीय समितियों की रिपोर्ट और सीमा संघर्ष संबंधित द्विपक्षीय वार्ता के परिणामों के बारे में अवगत कराया। कोनरॉड संगमा के अनुसार गृह मंत्री ने इस मामले में दोनों राज्यों की पहल पर संतोष जताया है।