मेघालय के मुख्य निर्वाचन अधिकारी (सीईओ) एफआर खारकोंग ने शुक्रवार (24 फरवरी) को यह जानकारी दी। मेघालय में भारत-बांग्लादेश सीमा को सील करने का आदेश चुनाव आयोग ने पारित किया था।

मेघालय में स्वतंत्र और निष्पक्ष विधानसभा चुनाव सुनिश्चित करने के लिए चुनाव आयोग ने यह कदम उठाया है। चुनाव आयोग ने दो मार्च तक असम-मेघालय अंतरराज्यीय सीमा को भी सील करने का आदेश दिया है।

बड़ी खबर : मेघालय विधानसभा चुनाव 2023: शिलॉन्ग में बोले पीएम मोदी, इस राज्य में खिलेगा कमल


खारकोंगोर ने बताया कि बांग्लादेश से लगी अंतरराष्ट्रीय सीमा वाले सभी जिलों को सील करने का आदेश जारी करने को कहा गया है और सीमावर्ती क्षेत्रों में लोगों की आवाजाही प्रतिबंधित रहेगी।

मेघालय में चुनाव प्रक्रिया पूरी होने तक बॉर्डर हाट के संचालन को भी टाल दिया गया है।

बड़ी खबर : सुप्रीम कोर्ट ने स्कूलों और कार्यस्थलों में महिलाओं के लिए मासिक धर्म की छुट्टी की याचिका खारिज की


मेघालय के सीईओ ने कहा कि अगर दोनों देशों के बीच व्यक्तियों के अनियंत्रित आंदोलन की अनुमति दी जाती है तो कानून और व्यवस्था की समस्या होने की संभावना है जिससे मानव जीवन को खतरा होगा और सार्वजनिक शांति भंग होगी।

60 सदस्यीय मेघालय विधानसभा के चुनाव के लिए मतदान 27 फरवरी को एक ही चरण में होगा। वोटों की गिनती 2 मार्च को की जाएगी।