मेघालय में भारी बारिश के बाद हुए भूस्खलन और पेड़ गिरने से एक नाबालिग लड़के सहित 2 लोगों की मौत हो गई। ईस्ट खासी हिल्स डिजास्टर मैनेजमेंट अथॉरिटी के चेयरपर्सन इसावंदा लालू ने कहा कि राज्य की राजधानी से होकर बहने वाली वहुमखरा नदी का पानी उसके किनारे और एक स्कूल सहित आसपास की आवासीय कॉलोनियों में पानी भर गया है।

ये भी पढ़ेंः यूनाइटेड डेमोक्रेटिक पार्टी ने मेघालय में राज्य विश्वविद्यालय की जरूर का दिलाया एहसास


री-भोई जिले के पानीटोला में ऑटो रिक्शा पर पेड़ गिरने से एक लड़के की मौत हो गई। एक अन्य व्यक्ति की पहचान सिद्रेस के सहनोह के रूप में की गई है, जो मॉकिन्यू ब्लॉक के जोंगक्शा गांव में भूस्खलन में बह गया था। आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि राज्य भर में नदियां और नाले खतरे के निशान से ऊपर बह रहे हैं। पाइनर्सला रोड पर भूस्खलन की सूचना मिली थी, जिसके बाद नेशनल हाईवे इंफ्रास्ट्रक्चर डेवलपमेंट कॉरपोरेशन लिमिटेड को मलबा हटाना पड़ा। 

ये भी पढ़ेंः समान नागरिक संहिता स्वीकार नहीं, अगर लागू हुआ तो संघर्ष होगा: मेघालय के डिप्टी सीएम


पेड़ उखड़ने और भूस्खलन के कारण राज्य भर के सभी राष्ट्रीय राजमार्गों पर वाहन फंसे हुए हैं, जबकि पुलिस कर्मियों के साथ बचाव दल को सड़कों को साफ करने के लिए लगाया गया है। अधिकारियों ने यात्रियों को अतिरिक्त सावधानी बरतने के लिए सावधान किया है।  पूर्वी खासी हिल्स जिले के मौसिनराम में 483.2 मिमी बारिश दर्ज की गई, जबकि सोहरा (चेरापूंजी) में 104 मिमी बारिश हुई, जबकि शिलांग और मावकिरवाट में क्रमशः 111.5 मिमी और 184 मिमी बारिश हुई। मेट्रोलॉजिकल सेंटर, शिलांग ने कहा कि अगले चार-पांच दिनों में बंगाल की खाड़ी से उत्तर-पूर्व की ओर तेज निचले स्तर की दक्षिण-दक्षिण-पश्चिमी हवाओं के कारण नमी की संभावना है।