मेघालय के उपमुख्यमंत्री प्रेस्टन तिनसॉन्ग ने हाल ही में यह जानकारी दी है कि मेघालय सरकार प्रतिबंधित संगठन के साथ बैठक के बाद वार्ताकार के इनपुट के आधार पर एचएनएलसी के साथ प्रस्तावित शांति वार्ता को आगे बढ़ाएगी। मेघालय के डिप्टी सीएम प्रेस्टन तिनसॉन्ग ने कहा, "हमने इसे वार्ताकार के विवेक पर छोड़ दिया है। 

यह भी पढ़े : IPL 2022: कोलकाता ने मुंबई को 52 रन से पीटा, किसी एक सीजन में सबसे ज्यादा मैच हारने वाली टीम बनी मुंबई इंडियंस


10 मार्च को केंद्र ने सेवानिवृत्त आईएएस अधिकारी पीटर एस दखर को एचएनएलसी के साथ शांति वार्ता के वार्ताकार के रूप में नियुक्त किया। वार्ताकार की नियुक्ति के तुरंत बाद मेघालय सरकार ने एचएनएलसी के साथ औपचारिक बातचीत करने की प्रक्रिया शुरू कर दी।

सेवानिवृत्त आईपीएस अधिकारी एके मिश्रा जो केंद्रीय गृह मंत्रालय के सलाहकार हैं। एचएनएलसी के साथ बातचीत पर केंद्र और राज्य सरकार के बीच समन्वय स्थापित करेंगे।

यह भी पढ़े : कोलकाता नाइट राइडर्स पर कहर बनकर टूटे Jasprit Bumrah , वाइफ बोलीं- 'मेरा पति फायर है'


एचएनएलसी जो मेघालय में एक संप्रभु खासी आदिवासी मातृभूमि की मांग कर रहा है।  1980 के दशक के मध्य में गठित पहाड़ी राज्य के पहले आदिवासी उग्रवादी संगठन, हिनीवट्रेप अचिक लिबरेशन काउंसिल का एक अलग गुट है।