मेघालय में प्रतिबंधित उग्रवादी संगठन, हाइनीवट्रेप नेशनल लिबरेशन काउंसिल (HNLC) कथित तौर पर समूह में नए सदस्यों की भर्ती के उद्देश्य से सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म का व्यापक रूप से उपयोग कर रहा है। मेघालय के गृह विभाग के अधिकारियों के हवाले से रिपोर्ट में कहा गया है कि HNLC सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म के जरिए युवाओं को प्रतिबंधित संगठन में फंसा रहा है।

हाल ही में, HNLC के एक 'कम उम्र' के कैडर को मेघालय पुलिस ने शिलांग के पुलिस बाजार इलाके में 31 जनवरी को हुए बम विस्फोट (bomb blast) में उसकी कथित संलिप्तता के लिए गिरफ्तार किया था। शिलांग बम विस्फोट मामले में पुलिस ने अब तक 20 साल से कम उम्र के चार लोगों को गिरफ्तार किया है।



मेघालय के मुख्यमंत्री कोनराड संगमा (Conrad Sangma) ने कहा, "गिरफ्तार किए गए लोगों ने IED बनाने के लिए कच्चे माल की आपूर्ति की, जो रविवार को शिलांग में चला गया था।" 31 जनवरी को शिलांग शहर में दिल्ली मिष्ठान भंडार नामक एक व्यावसायिक प्रतिष्ठान के पास IED विस्फोट हुआ था। बम विस्फोट (bomb blast) में किसी के हताहत होने या किसी के घायल होने की सूचना नहीं है।