मेघालय में कोरोना वायरस (कोविड-19) महामारी के 20 नये मामले सामने आने से राज्य में सक्रिय मामलों की संख्या बढ़कर 594 हो गई है। नये मामलों में 19 मामले नागरिकों और एक सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) के जवान का है। दूसरी ओर राज्य सरकार ने किसी विशेष इलाके या गली में कोविड-19 मामले का पता लगाने के बाद कंटेनमेंट जोन के लिए सूक्ष्म प्रबंधन की खातिर नयी मानक संचालन प्रक्रिया का सेट जारी किया है। 

उन्होंने कहा कि एक से अधिक मामले वाले शहरी और ग्रामीण क्षेत्रों में वायरस के प्रसार की रोकथाम के लिए चिकित्सीय राय के आधार पर सूक्ष्म कंटेनमेंट जोन घोषित किया जा सकता है। स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग के आयुक्त पी संपत कुमार कहा की रणनीति के तहत चिन्हित भौगोलिक क्षेत्र में कोविड-19 का पता चलने पर वायरस के प्रसार की श्रृंखला का जल्द पता लग सकेगा और नए क्षेत्रों में इसके प्रसार को रोजा जा सकेगा। 

उन्होंने कहा, इसमें भौगोलिक क्वारंटीन, सामाजिक दूरी के उपायों में सक्रिय निगरानी बढ़ाई जाएगी, सभी संदिग्ध मामलों का परीक्षण, मामलों की आईसोलेशन / घर पर क्वारंटीन, सार्वजनिक स्वास्थ्य उपायों का पालन करने के लिए सामाजिक भागीदारी। उन्होंने कहा कि जिला रैपिड रिस्पांस टीमों / निगरानी इकाइयों के साथ आशा कार्यकर्ता, आंगनवाड़ी कार्यकर्ता/सामुदायिक प्रबंधन टीमों को शामिल किया जाएगा। इस बीच स्वास्थ्य सेवा निदेशक (एमआई), डॉ अमन वार ने कहा कि 20 नए मामलों में 19 पूर्वी खासी हिल्स जिले के थे और बीएसएफ जवान का एक मामला वेस्ट गारो हिल्स का है। 

उन्होंने बताया कि बुधवार सुबह तक पूर्वी खासी हिल्स में दो नागरिकों सहित आठ लोग, सशस्त्र बल और बीएसएफ के एक-एक कर्मी और री-भोई जिले के चार नागरिक ठीक हुए हैं। अब तक कुल 338 लोग संक्रमण से उबर चुके हैं। उन्होंने कहा कि राज्य में कुल 594 मामलों में से 488 मामले सक्रिय है जिनमें 189 बीएसएफ, 59 सशस्त्र बल (सेना, असम राइफल्स) के जवान और राज्य के कोरोना से सबसे अधिक प्रभावित सिवलियन पूर्वी खासी हिल्स जिले में 240 नागरिकों के मामले हैं। री-भोई में 51, ईस्ट जैंतिया हिल्स में 17, वेस्ट जैंतिया हिल्स में 16, वेस्ट गारो हिल्स में 15 और साउथ गारो हिल्स जिले में दो मामले है।