मेघालय में कोयला खदानों से अवैध कोयलें का खनन किया जा रहा है। मेघालय सरकार ने इसके खिलाफ कई एक्शन लिए लेकिन नाकाम रही। सरकार की विफलता पर TMC नेता मुकुल संगमा (Mukul Sangma) ने सकार की कड़ी आलोचन की है। मुकुल संगमा ने कहा कि "यह सरकार इन अवैधता (अवैध कोयला खनन) को रोकने के मूड में नहीं है।"


मुकुल संगमा (Mukul Sangma) ने दावा करते हुए कहा कि मेघालय में बड़े पैमाने पर अवैध कोयला खनन बेरोकटोक जारी है, खासकर दक्षिण गारो हिल्स जिले में। बता दें कि मुकुल संगमा ने यह बयान साउथ गारो हिल्स जिले में एरानिंग कोल डंपिंग साइट का अचानक दौरा किया, इसके बाद उन्होंने सरकार को घेरना शुरू कर दिया।


संगमा ने दौरे के दौरान कहा कि उन्हें "अवैध कोयला खनन (illegal coal mining) और परिवहन के सबूत मिले हैं"। NPP के नेतृत्व वाली मेघालय सरकार ने अवैध कोयला खनन पर अपनी आंखें मूंद ली हैं। मुकुल संगमा के आरोपों का जवाब देते हुए, मेघालय के मुख्यमंत्री कोनराड संगमा (Conrad Sangma) ने कहा कि " राज्य सरकार ने निर्देश दिया है। सभी जिला प्रशासन यह सुनिश्चित करने के लिए कि "कोई अवैध कोयला खनन न हो"।कॉनराड संगमा (Conrad Sangma) ने यह भी कहा है कि "सभी जिला प्रशासन और पुलिस विभाग को यह सुनिश्चित करने का निर्देश दिया गया है कि कोई भी अवैध कोयला खनन  (illegal coal mining) न हो। केवल उचित दस्तावेजों वाले लोगों को ही अनुमति दी जा रही है।"