पूर्वोत्तर राज्य मेघालय में कांग्रेस (Meghalaya Congress) को बड़ा झटका लगा है। दरअसल मेघालय कांग्रेस के पांच विधायक मंगलवार को सत्तारूढ़ एमडीए (MDA) में शामिल हो गए, जिसे भाजपा का समर्थन प्राप्त है। बता दें कि कांग्रेस के पास कुल 17 विधायक थे, जिसमें पूर्व मुख्यमंत्री मुकुल संगमा (Mukul Sangama) सहित 12 विधायक पिछले साल टीएमसी (TMC) में शामिल हो गए थे। कांग्रेस विधायक दल (सीएलपी) ने औपचारिक रूप से मुख्यमंत्री कोनराड के संगमा (Conrad K Sangma) को समर्थन पत्र सौंपा।

विधायकों ने कहा कि हम आज 8 फरवरी, 2022 को एमडीए (मेघालय डेमोक्रेटिक एलायंस) (Meghalaya Democratic Alliance) सरकार में शामिल होने का फैसला किया है। हम आपको और एमडीए को सरकार को निर्णय लेने के लिए और मजबूत करना चाहते हैं। पत्र में कहा गया है कि हमारे संयुक्त प्रयास राज्य के नागरिकों को काफी फायदा होगा। पत्र पर सीएलपी नेता अम्पारेन लिंगदोह (Ampareen Lyngdoh) और विधायक पीटी सावक्मी (PT Sawkmie), मायरलबोर्न सिएम (Mayralborn Syiem), केएस मारबानियांग (KS Marbaniang ) और मोहेंड्रो रापसांग ने हस्ताक्षर किए। पत्र की एक प्रति कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी (Sonia Gandhi) को भी भेजी गई है।

लिंगदोह (Ampareen Lyngdoh) ने मुख्यमंत्री के साथ कांग्रेस विधायकों की एक तस्वीर के साथ ट्वीट किया, मेघालय कांग्रेस के पांच विधायकों ने राज्य के लोगों, विशेष रूप से हमारे व्यक्तिगत निर्वाचन क्षेत्रों के लाभ के लिए मेघालय लोकतांत्रिक गठबंधन प्रशासन में शामिल होने का फैसला किया है। नेशनल पीपुल्स पार्टी के नेतृत्व वाली एमडीए सरकार को भाजपा का समर्थन प्राप्त है। भाजपा विधायक सनबोर शुलाई मेघालय सरकार में मंत्री भी हैं। कांग्रेसी विधायकों के सत्तारूढ़ गठबंधन में शामिल होने के साथ ही मेघालय विधानसभा में विपक्षी बेंच पर केवल टीएमसी का कब्जा है।