अगरतला/शिलांग। चुनाव आयोग द्वारा विधानसभा चुनाव कार्यक्रम की घोषणा से कुछ सप्ताह पहले केंद्रीय सशस्त्र पुलिस बलों (सीएपीएफ) ने सोमवार से त्रिपुरा, नागालैंड और मेघालय के तीन चुनावी राज्यों में पहुंचना शुरू कर दिया है।

मेघालय के मुख्य निर्वाचन अधिकारी फ्रेडरिक आर खारकोंगोर ने शिलांग में कहा कि राज्य ने चुनाव के लिए सीएपीएफ की 119 कंपनियां तैनात करने की मांग की है और 30 कंपनियां पहले ही राज्य में आ चुकी हैं। उन्होंने कहा, 782 संवेदनशील मतदान केंद्र हैं और 402 की पहचान संवेदनशील के रूप में की गई है। नागालैंड में भी बड़ी संख्या में सीएपीएफ पहले ही आ चुका है और उन्हें अलग-अलग जिलों में तैनात कर दिया गया है।

एक निजी कंपनी की तरह काम करती है ममता बनर्जी की पार्टी टीएमसी

अगरतला में त्रिपुरा के मुख्य निर्वाचन अधिकारी गिट्टे किरणकुमार दिनकरराव ने कहा कि सीएपीएफ की 50 कंपनियां पहले ही त्रिपुरा पहुंच चुकी हैं और 50 से अधिक कंपनियां राज्य में पहुंचने वाली हैं। त्रिपुरा के पुलिस महानिदेशक अमिताभ रंजन ने भी आईएएनएस को बताया कि राज्य में सीएपीएफ की 50 कंपनियां पहले ही आ चुकी हैं और दो दिनों में 50 और कंपनियां पहुंच रही हैं।

उन्होंने कहा, इनके अलावा, 20 जनवरी तक त्रिपुरा में सीएपीएफ की 100 और कंपनियों के आने की उम्मीद है। चुनाव अधिकारियों ने कहा कि शून्य मतदान हिंसा के उद्देश्य से राज्य में आगामी विधानसभा चुनाव कराने के लिए मिशन मोड में काम करने का प्रस्ताव है।

चुनाव को हिंसा मुक्त रखने के लिए अगले दो महीनों में कई प्रशासनिक और जागरूकता कदम उठाए जाने का प्रस्ताव है। उठाए जाने वाले कदमों में राजनीतिक दलों, कार्यकर्ताओं और प्रतिष्ठित नागरिकों को शामिल करते हुए सभी 60 विधानसभा क्षेत्रों में व्यक्तियों, परिवारों, समाज और राज्य की समग्र छवि पर हिंसा के नकारात्मक प्रभावों को उजागर करने वाली जागरूकता कार्यशालाएं शामिल हैं।

चुनाव आयोग ने एक बयान में कहा, सीएपीएफ द्वारा फ्लैग/रोड मार्च चुनाव प्रचार के लिए राजनीतिक कार्यकर्ताओं के बीच और नागरिकों के बीच बिना किसी डर के स्वतंत्र रूप से वोट डालने के लिए विश्वास निर्माण सुनिश्चित करने के लिए अग्रिम रूप से शुरू होगा। सुरक्षा बलों को चुनाव प्रक्रिया से काफी पहले तैनात किया जाएगा, ताकि वे इलाके से परिचित हों। स्थानीय पुलिस को सीएपीएफ को आवश्यक सहयोग देना चाहिए।

इसमें कहा गया है कि राज्य पुलिस यह सुनिश्चित करेगी कि सभी बदमाशों, उपद्रवियों, हिस्ट्रीशीटरों पर या तो लगातार निगरानी रखी जाए या सीआरपीसी की संबंधित धाराओं के तहत बाध्य किया जाए। उपद्रवियों को दूर रखने के लिए मतदान प्रक्रिया की वेब-कास्टिंग और मतदान केंद्रों के बाहर वीडियोग्राफी जैसे निवारक उपायों का उपयोग सुनिश्चित किया जाएगा।

सूक्ष्म स्तर की रणनीति से होगा चुनाव संबंधी हिंसा की चुनौती का सामना शत-प्रतिशत हिंसा मुक्त चुनाव सुनिश्चित करने के लिए प्रत्येक पुलिस थाने को अपने-अपने जमीनी स्तर के इनपुट के आधार पर अपनी रणनीति बनानी होगी। मुख्य चुनाव आयुक्त राजीव कुमार की अध्यक्षता में पूर्ण चुनाव आयोग 11 जनवरी से तीन पूर्वोत्तर राज्यों का चार दिवसीय दौरा करेगा।

राज्यपाल बीडी मिश्रा ने वास्तविक नियंत्रण रेखा पर तैनात सशस्त्र बलों से मुलाकात की

सीईसी, दो चुनाव आयुक्त अनूप चंद्र पांडे और अरुण गोयल और कई वरिष्ठ अधिकारियों के साथ 11 जनवरी को त्रिपुरा पहुंचेंगे और फिर 12 जनवरी को शिलांग और फिर 14 जनवरी को नागालैंड जाएंगे। राज्यों की राजधानियों में रहने के दौरान सीईसी और अन्य दो ईसी विधानसभा चुनावों की तैयारियों की जांच करने और स्वतंत्र, निष्पक्ष और पारदर्शी तरीके से चुनाव कराने के लिए राज्य के अधिकारियों को निर्देश देने के लिए वरिष्ठ अधिकारियों के साथ कई बैठकें करेंगे।

चुनाव आयोग सभी राजनीतिक दलों से भी मुलाकात करेगा और सभी हितधारकों की भागीदारी के साथ चुनाव कराने के लिए उनकी राय लेगा। दिल्ली लौटने के बाद केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड की कक्षा 10 और 12 की परीक्षाओं को देखते हुए चुनाव आयोग तीन पूर्वोत्तर राज्यों में चुनाव कार्यक्रम की घोषणा कर सकता है।