शिलांग। बंगलादेश मुक्ति जोधाओं (स्वतंत्रता सेनानियों) के 25 सदस्यीय प्रतिनिधिमंडल ने मंगलवार को मेघालय के ऊपरी शिलांग में पूर्वी वायु कमान (ईएसी) के मुख्यालय का दौरा किया। बंगलादेश मुक्ति जोधा के सदस्य हारून हबीब के नेतृत्व में प्रतिनिधिमंडल वर्तमान में 1971 के युद्ध में पाकिस्तान पर जीत की स्वर्ण जयंती मनाने के लिए आयोजित 'स्वर्णिम विजय वर्ष' समारोह के हिस्से के रूप में कार्यक्रमों में भाग लेने के वास्ते भारत का दौरा कर रहा है। 

यह भी पढ़ें- अगरतला रेलवे स्टेशन से 3 रोहिंग्या गिरफ्तार, बांग्लादेश सरकार दे रही इसे बढ़ावा

वरिष्ठ एयर स्टाफ अधिकारी एयर मार्शल ए पी सिंह ने बहादुर मुक्ति जोधा के साथ बातचीत की और 1971 के बंगलादेश युद्ध के दौरान बंगलादेश की मुक्ति के लिए उनकी भूमिका एवं प्रयासों की प्रशंसा की। सभी 25 बंगलादेशी मुक्ति जोधा 1971 में मेघालय सेक्टर से ऑपरेशन में शामिल हुए थे। प्रतिनिधिमंडल के साथ रहे मेघालय के आयुक्त व कला और संस्कृति विभाग के सचिव, फ्रेडरिक रौ खरकोंगोर ने समारोह आयोजित करने के लिए पूर्वी वायु कमान को धन्यवाद दिया और कहा कि प्रतिनिधिमंडल के कुछ सदस्य समारोह के दौरान भावुक भी हो गए क्योंकि उनकी युद्ध के दौरान की यादें ताजा हो गयीं। 

यह भी पढ़े : अपनी प्रिय राशियों को मालामाल बनाएंगे देवगुरु बृहस्पति, 2023 तक इन राशियों में रहेंगे विराजमान

बंगलादेशी मुक्ति जोधा की ओर से श्री हारून हबीब ने भारतीय सशस्त्र बलों के उन वीर सदस्यों को श्रद्धांजलि अर्पित की जिन्होंने बंगलादेश की मुक्ति के लिए लड़ाई लड़ी। उन्होंने कहा कि उनका योगदान बंगलादेश के स्वतंत्रता इतिहास में बना रहेगा। प्रतिनिधिमंडल गुरुवार को मेघालय के राज्यपाल सत्य पाल मलिक, मुख्यमंत्री कोनराड संगमा और मुख्य सचिव रेबेका वैनेसा सुचियांग से भी मुलाकात करेगा। वह सीमा सुरक्षा बल के अधिकारियों के साथ भी बातचीत करेंगे।