नई दिल्ली/शिलॉन्ग/गुवाहाटी। असम-मेघालय सीमा विवाद (Assam-Meghalaya border dispute) जल्द सुलझने के आसार हैं। इस मामले को लेकर दोनों राज्यों के मुख्यमंत्री अपना पूरा जोर लगा रहा हैं। मेघालय के मुख्यमंत्री कोनराड संगमा (Meghalaya Chief Minister Conrad Sangma) ने बुधवार को बताया कि असम के मुख्यमंत्री हिमंत बिस्वा सरमा (Assam Chief Minister Himanta Biswa Sarma) के साथ गुरुवार को दोनों केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह (Union Home Minister Amit Shah) से मुलाकात करने जाएंगे। इस दौरान वे गृह मंत्री को दोनों राज्यों के बीच सीमा विवाद सुलझाने के लिए सिफारिशें सौंपेंगे। बता दें कि इससे पहले मेघालय कैबिनेट (Meghalaya cabinet) ने सीमा विवाद सुलझाने के लिए सरकार द्वारा गठित तीन क्षेत्रीय कमेटियों की सिफारिशों को मंजूरी दी। दोनों राज्यों के बीच छह जगहों पर सीमा विवाद है।

गौरतलब है कि असम के मुख्यमंत्री हिमंत बिस्व सरमा ने भी मंगलवार अपने बयान में कहा था कि मेघालय के साथ सीमा विवाद के छह क्षेत्रों में सौहार्दपूर्ण समाधान का खाका तैयार हो चुका है। जिसे दोनों राज्य सरकारों ने शीर्ष स्तर पर विचार-विमर्श के जरिये रास्ता निकाला है।असम-मेघालय सीमा विवाद पर राज्य के राजनीतिक दलों के साथ बातचीत के बाद सरमा ने ट्वीट किया था कि असम-मेघालय सीमा विवाद को सुलझाने के हमारे प्रयास रंग ला रहे हैं। पहले चरण में 12 विवादास्पद क्षेत्रों में से छह को सुलझाने के लिए चिह्नित किया गया है।

हिमंता ने कहा कि पहले चरण में जिन क्षेत्रों को अंतिम समाधान के लिए चुना गया है, उनमें हाहिम, गिजांग, ताराबाड़ी, बोकलापारा, खानापारा-पिलिंगकाटा और रातचेरा शामिल किए गए हैं। सरमा ने कहा कि दोनों राज्यों के प्रतिनिधियों वाली तीन क्षेत्रीय समितियों की सिफारिशों के आधार पर सौहार्दपूर्ण समाधान के लिए रोडमैप तैयार किया गया है। कई दौर की बातचीत के बाद दोनों राज्य इस चरण में पहुंचे हैं।