मेघालय के मुख्यमंत्री कोनराड संगमा ने राज्य के पश्चिम जयंतिया हिल्स जिला के मुकरोह गांव में गोलीबारी की घटना में पांच नागरिकों और एक असम वन रक्षक की मौत के संबंध में असम के मुख्यमंत्री हिमंत बिस्वा सरमा से बात की है। इसके साथ ही संगमा ने बताया कि उन्होंने इस घटना की जानकारी केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह को भी दी है और उनसे इस मामले में हस्तक्षेप और कार्रवाई करने की मांग की है। 

मेघालय सीमा पर फायरिंग में 6 लोगों की मौत के बाद असम सरकार ने लिए 5 बड़े फैसले


उल्लेखनीय है कि ग्रामीणों और असम पुलिस के बीच हुई हिंसक झड़पों के दौरान मेघालय के पांच नागरिकों और असम के एक वन रक्षक की मौत हो गई और दो नागरिक गंभीर रूप से घायल हो गए। नागरिकों की मौत असम पुलिस की गोलीबारी में हुई। मुख्यमंत्री ने कहा, मैंने असम के मुख्यमंत्री से बात की और उन्हें घटना के बारे में जानकारी दी। वह (सरमा) भी इस घटना से वाकिफ हैं। उन्होंने कहा, हमारी चर्चा बहुत संक्षिप्त थी और उन्होंने ( सरमा) आश्वासन दिया है कि इस मामले में असम सरकार की ओर से जो भी किया जा सकता है, वह किया जाएगा। 

मेघालय के सात जिलों में मोबाइल इंटरनेट सेवा निलंबित, हिंसक झड़प में मारे गए हैं 6 लोग


उन्होंने बताया कि मुक्रोह में जिस जगह पर यह घटना घटित हुयी है, वह मेघालय की सीमा में हैं। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार क्षेत्र की संवेदनशीलता के कारण इस महीने के अंत में बाराटो में एक चौकी खुलने वाली है। उन्होंने कहा, घटना वाले क्षेत्र में मेघालय की ओर से सुरक्षाकर्मियों की उपस्थिति कम थी। हम क्षेत्र की संवेदनशीलता को देखते हुए 25 नवंबर को चौकी के निर्माण के साथ सुरक्षा कवर बढ़ाने की कोशिश कर रहे हैं। यह पूछे जाने पर कि क्या हिंसक घटना के बाद असम के साथ चल रही सीमा वार्ता में रुकावट जाएगी। इसके जवाब में संगमा ने कहा कि यह घटना सीधे तौर पर वार्ता से जुड़ी नहीं है। उन्होंने कहा, सीमा वार्ता वास्तव में हमारे लिए महत्वपूर्ण है, लेकिन वर्तमान समय में समग्र स्थिति प्रभावित हुयी हैं। चीजें पहले जैसी नहीं रहेंगी। इसलिए हमें विश्वास-निर्माण के उपायों को तलाशने की आवश्यकता है। मुख्यमंत्री ने कहा, हम उम्मीद करते हैं कि केंद्र सरकार और असम सरकार दोनों न्याय सुनिश्चित करने के लिए आवश्यक कदम उठाएंगे।