मेघालय के पूर्वी खासी हिल्स जिले के एक दूरदराज गांव में एशियाई काले भालू को मारने के आरोप में कम से कम 10 लोगों को गिरफ्तार किया गया है। अधिकारियों ने गुरुवार को बताया कि प्राथमिक जांच से पता चला है कि गर्भवती भालू को शहद के डिब्बे को रखकर जाल में फंसाया गया। राज्य के वन एवं पर्यावरण मंत्री लकमन रिम्बुई ने कहा कि एक व्यक्ति को पांच मई को गिरफ्तार किया गया और बाकी को बुधवार को गिरफ्तार किया गया।


शिकारियों द्वारा भालू की खाल निकालने वाला वीडियो सोशल मीडिया पर इस सप्ताह की शुरुआत में वायरल हो गया था, जिसके बाद लोगों ने गुस्सा जाहिर किया। यह घटना चार मई को पिनुर्सला उप संभाग के मेपीर्थुह गांव में हुई थी। यह क्षेत्र भारत-बांग्लादेश सीमा के निकट है।


एशियाई काले भालू को हिमालयी काला भालू या तिब्बती काला भालू कहा जाता है और यह संवेदनशील प्रजाति की श्रेणी में आता है। प्राथमिक जांच से खुलासा हुआ है कि भालू को पकड़ने के बाद उसे आग के हवाले कर दिया गया था। मंत्री ने लोगों को वन्यजीवों का शिकार करने पर कड़ी कार्रवाई का सामना करने की चेतावनी दी है।