मणिपुर के तामेंगलांग से एक ऐसा मामला सामने आया है, जिसने लोगों को हैरान कर दिया है। दरअसल, तामेंगलांग के क्वारंटाइन सेंटर से दो युवक अपनी गर्लफ्रेंड से मिलने के लिए भाग गए। हालांकि, कुछ टाइम बाद वे वापस भी लौट आए, लेकिन जब दोनों वापस लौटे तो उनके पास गांजा, सिगरेट और काफी शराब थी। 

स्थानीय मीडिया के मुताबिक, जब अधिकारियों ने युवकों को क्वारंटाइन सेंटर में रहने वाले अन्य लोगों को शराब, सिगरेट और गांजा बेचते पकड़ा तो उन्हें दोनों के क्वारंटाइन सेंटर से भागने और वापस आने की कहानी पता चली। इस पूरी घटना का जिक्र तामेंगलांग के डिप्टी कमिश्नर ने अपनी फेसबुक पोस्ट में किया। हालांकि, उन्होंने घटना की तारीख नहीं बताई है!

यह दोनों गर्लफ्रेंड से मिलने के लिए भागे थे, लेकिन जब बाइक से वापस लौटे तो अपने साथ 8 लीटर देसी शराब, चार पैकेट गांजा और सिगरेट लेकर आए। डीएम आर्मस्ट्रांग पाम ने कहा, उन्हें और उनकी टीम को समझ नहीं आ रहा कि ऐसे लोगों और ‘स्थानीय ठगों’ से कैसे निपटा जाए। जिला प्रशासन सजा देने के लिए इन्हें जेल भेजने वाला था, लेकिन कोरोना की वजह से जेल बंद है। वो आगे लिखते हैं, समझ नहीं आता कि इन्हें कैसे सजा दें। जेल भी बंद हैं। और हां, मानवाधिकार के उल्लंघन के डर से कोई इन्हें पीटना भी नहीं चाहता। अगर फाइन लगाकर छोड़ा गया, तो ये अपने सामान को ऊंचे दाम पर बेचकर भरपाई कर लेंगे।