मणिपुर की एकमात्र राज्यसभा सीट के लिए हाल ही में संपन्न चुनाव में भाजपा उम्मीदवार को वोट देने के लिए प्राप्त कारण बताओ नोटिस का जवाब देते हुए कांग्रेस के दो विधायकों ने कहा है कि भगवा पार्टी के उम्मीदवार अधिक योग्य थे।

राज्य कांग्रेस ने विधायकों आर.के. इमो सिंह और ओकराम हेनरी सिंह को पार्टी के व्हिप का उल्लंघन करके राज्यसभा सीट के लिए भाजपा के उम्मीदवार लेईशेम्बा सनाजोउबा को वोट देने पर कारण बताओ नोटिस जारी हुआ था। चुनाव में कांग्रेस उम्मीदवार टी. बाबु की हार हुई।

राज्य पार्टी के सूत्रों ने शुक्रवार को बताया कि प्रदेश कांग्रेस समिति प्रमुख को अपने जवाब में इमो सिंह ने कहा, 'यह सच है कि 19 जून को हुए राज्यसभा चुनाव में मैंने मणिपुर के महाराजा के पक्ष में मतदान किया क्योंकि मेरे विवेक के अनुसार, राज्यसभा सदस्य बनने के लिए वह सबसे योग्य व्यक्ति हैं और वह पूरे मणिपुर की जनता की इच्छाओं का प्रतिनिधित्व करते हैं।'

उन्होंने कहा कि जन प्रतिनिधित्व कानून, 1951 के प्रावधान 59 और संविधान के तहत राजनीति दल द्वारा जारी व्हिप राज्यसभा के चुनाव पर लागू नहीं होता है।

उन्होंने कहा, 'मैं अब भी कांग्रेस का सदस्य हूं, मैंने कभी पार्टी के खिलाफ बयान नहीं दिया और नाहीं भविष्य में ऐसा कोई बयान देने की मंशा है।'

वहीं विधायक हेनरी सिंह ने अपने जवाब में कहा है, 'राज्यसभा चुनाव में मैंने मणिपुर के महाराजा लेईशेम्बा सनाजोउबा के पक्ष में वोट डाला क्योंकि, मेरा मानना है महामहिम ने राज्य में पहाड़ी और घाटी में रहने वालों के बीच शांति और सौहार्द कायम किया है।'