मणिपुर के प्रतिबंधित उग्रवादी समूह पीपुल्स रिवॉल्यूशनरी पार्टी ऑफ कांगलीपाक (प्रीपाक) के तीन वरिष्ठ नेता पड़ोस के म्यांमा में गिरोह के भीतर प्रतिद्वंद्विता में मारे गए। सुरक्षा अधिकारियों ने बताया कि प्रीपाक के कार्यवाहक अध्यक्ष खुमुजम रतन, संगठन सचिव मयांगबम जयचंद और एक अन्य नेता राजकुमार रामानंद म्यांमा के चिन प्रांत में मारे गए और पिछले सप्ताह घने जंगल में उनके शव को दफना दिया गया।

गुट के एक अन्य शीर्ष नेता अहिबा अंगोम के इशारे पर तीनों नेताओं की हत्या कर दी गयी। अंगोम पर संगठन के कोष से पांच करोड़ रुपये से ज्यादा राशि गबन करने का आरोप था। अधिकारियों ने बताया कि दिवंगत नेताओं ने वित्तीय अनियमितता की जांच के आदेश दिये थे, जिसके कारण उनकी हत्या कर दी गयी।

अपराध को छिपाने के लिए अंगोम ने यह अफवाह फैला दी कि तीनों नेता 23 मई को सड़क दुर्घटना में मारे गए गए और एक खाई से उनके शव निकाले गए और संगठन के एक शिविर में उनका अंतिम संस्कार कर दिया गया। अधिकारियों ने बताया कि अब यह साबित हो चुका है गुटीय प्रतिद्वंद्विता में तीनों नेताओं की जान गयी।