दुनिया के सबसे ऊंचे रेलवे पिलर पर तिरंगा झंडा फहराया गया है। जी हां ये हुआ मणिपुर में। मणिपुर में दुनिया के सबसे ऊंचे रेल परियोजना के निर्माणधीन पिलर पर तिरंगा झंडा फहराया गया है। रेल मंत्रालय ने सोशल मीडियो पर एक वीडियो शेयर कर इसकी जानकारी दी है। मणिपुर का नोनी ब्रिज 111 किलोमीटर लंबी जिरीबाम-इंफाल रेलवे परियोजना का एक हिस्सा है। इस रेलवे लाइन से पूर्वोत्तर तक काफी अच्छी कनेक्टिविटी हो सकेगी। यह परियोजना इंफाल को देश के ब्रॉड गेज नेटवर्क से जोड़ेगी। यह पुल दुनिया का सबसे ऊंचा रेलवे पुल होगा।

यह ब्रिज 141 मीटर की ऊंचाई पर बन रहा है। यह वर्ल्ड रिकॉर्ड है। यह ब्रिज यूरोप में मोंटेनेग्रो के माला-रिजेका वायडक्ट का रेकॉर्ड तोड़ देगा, जो 139 मीटर की ऊंचाई पर है। इस ब्रिज को पूरा करने में करीब 374 करोड़ रुपये का खर्चा आएगा। जिरीबाम-इंफाल रेलवे परियोजना के पूरे होने के बाद 111 किलोमीटर की दूरी 2 से 2.5 घंटे में तय हो जाएगी। इस समय जिरीबाम-इंफाल के बीच की दूरी 220 किलोमीटर है और इस यात्रा में 10 से 12 घंटे का समय लगता है।

जिरीबाम-इंफाल रेलवे परियोजना में नोनी घाटी को पार करने वाला यह पुल दुनिया का सबसे ऊंचा पुल होगा। इस पुल का काम दिसंबर 2023 तक पूरा हो जाएगा। गौरतलब है कि 111 किलोमीटर लंबी इस परियोजना में 61 फीसद सुरंगे हैं। इस पुल की कुल अनुमानित लागत 374 करोड़ रुपये है।