कोरोना की दूसरी लहर में स्कूल कॉलेजों के छात्र भी तेजी से कोरोना की चपेट में आ रहे हैं। हाल ही में एक और छात्र कोरोना पॉजिटिव पाया गया है। ये छात्र मणिपुर यूनिवर्सिटी का है। बताया जा रहा है कि कुछ दिनों पहले ही वह परीक्षा के लिए कैंपस में आया था जिसके बाद अब वो कोरोना पॉजटिव पाया गया है। जानकारी के मुताबिक छात्र वार्सिटी के कैंपस में परीक्षा देने के लिए गया था।

रजिस्ट्रार के मुताबिक छात्र वार्सिटी कैंपस के सोशल साइंस ब्लॉक में रूम नंबर 347 में बैठा था। ऐसे में अब कमरे में बैठने सभी छात्रों को सर्कुलर जारी कर 1 हफ्ते के लिए क्वारंटीन रहने के लिए कहा गया है। इसी के साथ सभी छात्रों और वार्सिटी से कोरोना से जुड़ी गाइडलाइन मानने के लिए कहा गया है।

वहीं दूसरी ओर मणिपुर के मुख्यमंत्री एन बीरेन सिंह ने बृहस्पतिवार को कहा कि राज्य में कोविड-19 टीके को लेकर थोड़े ‘संकोच’ के कारण स्वास्थ्यकर्मियों से इतर 45 साल से ज्यादा उम्र के 14 लाख लोगों में से करीब 3200 लोगों ने ही टीका लगवाया है।

मुख्यमंत्री ने 11 अप्रैल से शुरू हो रहे चार दिवसीय अभियान के दौरान 45 साल से अधिक उम्र के सभी लोगों और अब तक टीका न लगवाने वाले स्वास्थ्यकर्मियों और अग्रिम मोर्चा के कर्मियों से टीका लगवाने की अपील की। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ वीडियो कांफ्रेंस के माध्यम से हुई बैठक के बाद उन्होंने कहा कि कुछ वजहों से लोग टीका लेने से हिचकिचा रहे हैं और 60 साल से अधिक उम्र के छह लाख लोगों में से करीब 2,000 लोगों ने ही टीका लगवाया है। बीरेन ने कहा कि 45 साल से 60 साल की उम्र के आठ लाख लोगों में से अब तक सिर्फ 1100-1200 लोगों ने टीका लगवाया है।