कॉमनवेल्थ गेम्स 2022 जूडो के 48 किलोग्राम फाइनल में भारत की सुशीला देवी लिकमाबाम का गोल्ड हाथों से फिसला लेकिन उन्हें सिल्वर मेडल से ही संतोष करना पड़ा, फाइनल में सुशीला का सामना साउथ अफ्रीका की मिचेला व्हाइटबोई से था, जिन्होंने गोल्ड पर कब्जा जमाया।


देश के लिए सिल्वर लाने पर सुशीला देवी लिकमबम को प्रधानमंत्री ने बधाई दी है। फेसबुक पर फोटो शेयर करते हुए पीएम ने कहा कि सुशीला देवी द्वारा असाधारण प्रदर्शन से उत्साहित हैं। रजत पदक जीतने पर उन्हें बधाई। उसने उल्लेखनीय कौशल और लचीलापन का प्रदर्शन किया है। उनके भविष्य के प्रयासों के लिए शुभकामनाएं।

यह भी पढ़ें-  त्रिपुरा सरकार ने बांटे 5 लाख तिरंगें, लोगों में देशभक्ति जगाएगा 'हर घर तिरंगा' अभियान

जानकारी दे दें कि दोनों खिलाड़ियों के बीच मुकाबला 4 मिनट 25 सेकेंड तक चला। मुकाबले के दौरान दोनों खिलाड़ियों को पेनल्टी के तौर पर 2-2 अंक मिले. जिसके बाद गोल्डन अंक के जरिए फैसला हुआ। साउथ अफ्रीका की मिचेला व्हाइटबोई ने वजा-आरी स्कोरिंग के तहत 1 अंक।

यह भी पढ़ें-  सरकारी कर्मचारियों के लिए 5% DA की घोषणा, जल्द निकाली जाएगी 398 नई भर्ती

सुशीला ने सेमीफाइनल में मॉरिशस की प्रिसिल्ला मोरांद को इपपोन से हराया था। उससे पहले सुशीला ने क्वार्टर फाइनल में मालावी की हैरियट बोनफेस को हराया था। 27 साल की जुडोका सुशीला देवी इससे पहले भी राष्ट्रमंडल खेलों में पदक जीत चुकी थीं।

साल 2014 के ग्लासगो कॉमनवेल्थ गेम्स में वह इस इवेंट में भारत के लिए रजत पदक जीतने में ही कामयाब हुई थीं। इसके साथ ही सुशीला देवी कॉमनवेल्थ गेम्स के जूडो इवेंट में मेडल जीतने वाली पहली भारतीय महिला बन गई थीं।