मणिपुर में अधिकांश तेल डिपो, विशेष रूप से नुमालीगढ़ रिफाइनरी लिमिटेड (एनआरएल) द्वारा संचालित डिपो पेट्रोलियम उत्पादों की कमी के कारण शनिवार को बंद (Oil depot closed in Manipur) कर दिए गए । चम्फई प्रखंड प्रमुख एवं मनरेगा श्रमिकों के संघ के अध्यक्ष ने मनरेगा कार्यों के भुगतान की मांग को लेकर बुधवार रात से मणिपुर के दो राष्ट्रीय राजमार्गों पर आर्थिक नाकेबंदी (economic blockade) कर दी है। 

ये भी पढ़ें

चन्नी को अमित शाह का आश्वासन, अलगाववादी तत्वों के मिलीभगत के आरोपों के खिलाफ करेंगे जांच


एनआरएल तेल डिपो (NRL Oil Depot) बंद होने के कारण लोगों को काफी परेशानियां हो रही हैं। आर्थिक नाकेबंदी के चलते करीब तीन दिन से तेल के टैंकर राष्ट्रीय राजमार्ग पर फंसे हुए हैं और एनआरएल तेल डिपो में काम करने वाले लोगों के मुताबिक चालक राजमार्गों पर रह रहे है। 

ये भी पढ़ें

प्रियंका वाड्रा ने चारा घोटाले के न्यायिक प्रक्रिया पर ही उठा दिए सवाल, अब सीएम नीतीश कुमार का आया बड़ा बयान


इंडियन आयल कार्पोरेशन लिमिटेड (आईओसीएल) (IOCL) द्वारा संचालित कुछ तेल डिपो हालांकि खोले गए है लेकिन नाकेबंदी (economic blockade) के कारण उन्हें पर्याप्त स्टॉक नहीं मिल रहा है। यदि नाकाबंदी जारी रही, तो सभी तेल डिपो बंद हो सकते हैं। करीब 250 तेल टैंकर नाकेबंदी खत्म होने के इंतजार में राष्ट्रीय राजमार्गों पर फंसे हुए हैं। उल्लेखनीय है कि मणिपुर में विधानसभा चुनाव के लिए 28 फरवरी और पांच मार्च को मार्च को मतदान होने वाला है।