सुलोधा गांव का लाडला व असम राइफल का जवान नायब सूबेदार कृष्ण कुमार मणिपुर में बॉर्डर पर सोमवार सुबह 4:30 बजे देश के लिए शहीद हो गए। उनके पार्थिव शरीर को सुबह बॉर्डर से इंफाल लाया गया। जहां पर पोस्टमार्टम के बाद हवाई जहाज से उनके पार्थिव शरीर को शाम को दिल्ली लाया जाएगा। जहां से उनका पार्थिव शरीर गांव के लिए रवाना होगा।


कृष्ण के परिजन कुलदीप सिंह ने बताया कि नायब सूबेदार कृष्ण कुमार हवलदार पद से वर्ष 2006 में असम राइफल में भर्ती हुआ था और इस समय उनकी ड्यूटी मणिपुर में बॉर्डर पर थी। सेना के अधिकारियों ने उनके परिजनों को सूचना दी है कि एक घटना में गोली लगने से सोमवार की सुबह 4:30 बजे कृष्ण कुमार वीरगति को प्राप्त हो गए।

उनका पार्थिव शरीर मंगलवार की शाम तक गांव में पहुंचेगा। उनका कहना है कि अगर सूर्यास्त से पहले पार्थिव शरीर गांव में पहुंचा तो मंगलवार को ही अंत्येष्टि की जाएगी। अगर पार्थिव शरीर गांव पहुंचने में देरी हुई तो बुधवार को उनकी अंत्येष्टि सैनिक सम्मान के साथ की जाएगी। वर्ष 2004 में उनकी शादी शर्मिला देवी के साथ हुई थी। उनके तीन बच्चे हैं। जिनमें 12 साल की लड़की दीपिका, 6 साल की लड़की मुस्कान और डेढ़ साल का लड़का जिज्ञांस है। उनके पिता जीतराम यादव गांव में खेतीबाड़ी का कार्य करते हैं। जबकि बहन शादीशुदा है।