भारत की बॉक्सर लेशराम सरिता देवी के जीवन पर आधारित एक मणिपुरी फिल्म को 9 वें मुंबई शॉर्ट इंटरनेशनल फिल्म फेस्टिवल (MSIFF) 2020 में सर्वश्रेष्ठ वृत्तचित्र का अवॉर्ड मिला है। मणिपुर के राष्ट्रीय पुरस्कार विजेता फिल्म निर्माता बोरुन थोकोम द्वारा निर्देशित और सिनेमैटोग्राफ की गई 52 मिनट की डॉक्यूमेंट्री को फिल्म्स डिवीजन, मुंबई द्वारा निर्मित किया गया है। जिसे प्रतियोगिता में स्पेन, संयुक्त राज्य अमेरिका से तीन, जर्मनी और फ्रांस से दो, क्रोएशिया, ब्राजील, हंगरी और पोलैंड से एक-एक डॉक्यूमेंट्रीस ने हिस्सा लिया था।


55 से अधिक देशों के कुल 392 वृत्तचित्रों ने विभिन्न श्रेणियों में अवॉर्ड अपने हिस्से में किये हैं। जानकारी के लिए बता दें कि MSIFF ने अपने प्रगतिशील सिनेमा आंदोलन की शुरुआत 2012 में लघु फिल्म, एनिमेशन, वृत्तचित्र और संगीत वीडियो के रूप में स्थापित और महत्वाकांक्षी फिल्म निर्माताओं के काम को दिखाने के उद्देश्य से की थी, जिसका उद्देश्य भारत में लघु फिल्म संस्कृति का निर्माण करना था। मणिपुर फिल्म निर्माता बोरुन थोकोम ने मान्यता के लिए खुशी जाहिर की है।


बोरून ने कहा कि आई राइज और सरिता सात बार की एशियन चैम्पियनशिप पदक विजेता के जीवन पर आधारित यह डॉक्यूमेंट्री इंचियोन में ऐतिहासिक 2014 एशियाई खेलों के साथ शुरू होती है जहां मुक्केबाज ने मैच के फैसले का विरोध करने के बाद कांस्य पदक लेने से इनकार कर दिया था। अक्टूबर में, आई राइज ने पश्चिम बंगाल में टैगोर इंटरनेशनल फिल्म फेस्टिवल 2020 में सर्वश्रेष्ठ महिला उपलब्धि पुरस्कार पर सर्वश्रेष्ठ फिल्म का पुरस्कार जीता था। बता दें कि बोरून की पहले 2011 में द साइलेंट पोएट फिल्म के लिए भी राष्ट्रीय पुरस्कार जीता था।