शिलांग। मणिपुर ने बुधवार को यहां संपन्न पूर्वोत्तर ओलंपिक खेलों में 85 स्वर्ण पदक सहित कुल 237 पदक के साथ लगातार दूसरे साल शीर्ष स्थान हासिल किया। मणिपुर ने 76 रजत और 77 कांस्य पदक भी जीते। असम 81 स्वर्ण, 60 रजत और 60 कांस्य पदक सहित कुल 201 पदक जीतकर दूसरे स्थान पर रहा।

ट्विटर और मेटा के बाद Amazon ने की बड़े पैमाने पर छंटनी की घोषणा

देश के पूर्वोत्तर हिस्से के आठ राज्यों के खिलाड़ी 10 नवंबर से इस प्रतियोगिता में हिस्सा ले रहे थे। अरुणाचल प्रदेश ने तीसरा स्थान हासिल किया जबकि मेजबान मेघालय की टीम 36 स्वर्ण, 35 रजत और 78 कांस्य पदक सहित कुल 149 पदक जीतकर चौथे स्थान पर रही। मेघालय की टीम पहले सत्र में सिर्फ 39 पदक ही जीत सकी थी।

मुक्केबाज एमसी मेरीकोम और भारोत्तोलक मीराबाई चानू जैसे दिग्गज खिलाड़ी भारत को देने वाले मणिपुर ने बुधवार को प्रतियोगिता के अंतिम दिन सात स्वर्ण सहित 17 पदक जीतकर असम को पछाड़ा। मणिपुर की अंडर-17 महिला फुटबॉल टीम ने बुधवार को फाइनल में अरुणाचल प्रदेश को 3-0 से हराया। शिलांग में 12 स्थलों पर 18 खेल स्पर्धाओं का आयोजन किया गया जिसमें लगभग तीन हजार खिलाड़ियों ने हिस्सा लिया।

बीजेपी को बड़ा झटका, भाजपा के तीन जिलाध्यक्ष जदयू में शामिल हुए

अरुणाचल को 2019 में दूसरे सत्र की मेजबानी करनी थी लेकिन कोविड-19 महामारी के कारण शिलांग को मेजबान शहर चुना गया। तीसरे सत्र की मेजबानी नगालैंड को करनी है। मेघालय के मुख्यमंत्री कोनरेड संगमा ने कहा कि बुनियादी ढांचे से जुड़ी चुनौतियों के बावजूद खेलों का सफल आयोजन किया गया। क्षेत्र के कई राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय खिलाड़ियों ने इस प्रतियोगिता में हिस्सा नहीं लिया जबकि कुछ स्पर्धाओं का आयोजन अंडर-17 और अंडर-21 वर्ग में किया गया।