मणिपुर विधानसभा चुनाव (Manipur Assembly Elections) के दूसरे चरण के 92 उम्मीदवारों में से करीब 57 फीसदी ‘करोड़पति’ (Crorepati Candidate in Manipur Election) हैं, 16 उम्मीदवारों (17 फीसदी) ने अपने खिलाफ आपराधिक मामले घोषित किए हैं, जबकि 14 उम्मीदवारों (15 फीसदी) के खिलाफ गंभीर आपराधिक मामले हैं। एसोसिएशन फॉर डेमोक्रेटिक रिफॉम्र्स (एडीआर) (ADR) की एक रिपोर्ट में शुक्रवार को इसकी जानकारी दी गई है।

ये भी पढ़ें

मणिपुर चुनावों से पहले NPP उम्मीदवार जयानंद के घर के पास हुआ बम विस्फोट


एडीआर (ADR) की एक पूर्व रिपोर्ट के अनुसार, मणिपुर चुनाव के पहले चरण में चुनाव लडऩे वाले 173 उम्मीदवारों में से 21 प्रतिशत से अधिक के खिलाफ आपराधिक मामले हैं और 16 प्रतिशत के खिलाफ गंभीर आपराधिक मामले हैं, जबकि 53 प्रतिशत ‘करोड़पति’ हैं। एडीआर (ADR) की रिपोर्ट के अनुसार, जिसमें 92 उम्मीदवारों के स्वयं शपथ पत्र का विश्लेषण किया गया है, दूसरे चरण के चुनाव में लडऩे वाले प्रति उम्मीदवार की औसत संपत्ति 2.61 करोड़ रुपये है। 52 ‘करोड़पति’ (57 प्रतिशत) उम्मीदवारों में से 10 उम्मीदवारों (11 प्रतिशत) के पास 5 करोड़ रुपये और उससे अधिक की संपत्ति है।

ये भी पढ़ें

Manipur elections 2022: मुख्यमंत्री बीरेन सिंह का दावा , भाजपा मणिपुर में 40 से ज्यादा सीटें जीतेगी

एडीआर (ADR) की रिपोर्ट में कहा गया है कि हमारे चुनावों में धनबल की भूमिका इस बात से स्पष्ट होती है कि सभी प्रमुख राजनीतिक दल धनी उम्मीदवारों को टिकट देते हैं। इसमें कहा गया है कि प्रमुख दलों में जनता दल (यूनाइटेड) के 10 उम्मीदवारों में से चार (40 प्रतिशत), कांग्रेस के 18 उम्मीदवारों में से चार (22 प्रतिशत), नेशनल पीपुल्स पार्टी (NPP in Manipur election) के 11 उम्मीदवारों में से 2 (18 प्रतिशत) और भाजपा के 22 उम्मीदवारों में से दो (9 प्रतिशत) ने अपने हलफनामों में अपने खिलाफ आपराधिक मामले घोषित किए हैं। एडीआर विश्लेषण के अनुसार, जद (यूनाइटेड) के 10 उम्मीदवारों में से चार (40 प्रतिशत), 18 कांग्रेस उम्मीदवारों में से चार (22 प्रतिशत), एनपीपी के 11 उम्मीदवारों में से एक (9 फीसदी) और बीजेपी के 22 उम्मीदवारों में से एक (5 फीसदी) ने अपने खिलाफ गंभीर आपराधिक मामले घोषित किए हैं।

तीन उम्मीदवारों पर महिलाओं के खिलाफ अपराध से संबंधित मामले हैं और उनमें से एक को बलात्कार से संबंधित मामला (आईपीसी धारा-376) घोषित किया गया है। एडीआर की रिपोर्ट में कहा गया है कि 19 उम्मीदवारों ने (21 फीसदी) अपनी शैक्षणिक योग्यता 8वीं और 12वीं कक्षा के बीच घोषित की है, जबकि 72 उम्मीदवारों ने (78 फीसदी) स्नातक या उससे ऊपर की शैक्षणिक योग्यता घोषित की है। एक उम्मीदवार डिप्लोमा धारक है। कुल मिलाकर, नौ (10 प्रतिशत) उम्मीदवारों ने अपनी आयु 25 से 40 वर्ष के बीच घोषित की है, जबकि 66 (72 प्रतिशत) उम्मीदवारों ने अपनी आयु 41 से 60 वर्ष के बीच घोषित की है और 17 (18 प्रतिशत) उम्मीदवारों ने अपनी आयु 61 से 80 वर्ष के बीच घोषित की है। बता दें कि 60 सीटों वाली मणिपुर विधानसभा (Manipur Assembly Elections) के लिए दो चरणों में 28 फरवरी और 5 मार्च को मतदान होगा और मतों की गिनती 10 मार्च को होगी।