मणिपुर के मुख्यमंत्री एन बीरेन सिंह समेत सभी नवनिर्वाचित विधायकों ने सोमवार को 12वीं विधानसभा के सदस्य के रूप में शपथ ली। प्रोटेम अध्यक्ष एस राजेन ने नवनिर्वाचित सदस्यों को शपथ दिलाई। हाल ही में हुए चुनाव में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने मणिपुर में पहली बार 32 सीटें जीतकर पूर्ण बहुमत हासिल किया है। वहीं एनपीपी को सात, जनता दल (यूनाइटेड) जद (यू) को छह, कांग्रेस और एनपीएफ को पांच, केपीए को दो और तीन सीटों पर निर्दलीयों को जीत मिली है। इस बार भाजपा की तीन सहित पांच महिला सदस्य चुनकर आयी है।

ये भी पढ़ेंः इस शख्स की जीभ पर उग आए बाल, कारण जानकर उड़ रहे लोगों के होश


वहीं दूसरी तरफ गोविंददास ने इंफाल में पत्रकारों से बात करते हुए स्पष्ट किया कि उनका मुख्यमंत्री बनने का कोई इरादा नहीं है, और कहा कि मेरे लिए भाजपा के आलाकमान द्वारा लिया गया निर्णय मेरी खुशी होगी। गोविंददास बिष्णुपुर एसी से लगातार छठी बार विधायक चुने गए। MPCC अध्यक्ष पद से इस्तीफा देने के बाद 1 अगस्त, 2021 को दिल्ली में पार्टी मुख्यालय में उन्हें भाजपा में शामिल किया गया था।

ये भी पढ़ेंः रूस बरसा रहा बम, यूक्रेन की यह मांग कोई नहीं कर रहा पूरा; जेलेंस्की ने दुनिया से लगाई गुहार


राज्य भाजपा उपाध्यक्ष सीएच चिदानंद ने मीडिया को जारी एक वीडियो क्लिप में कहा कि कुछ सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म और डिजिटल मीडिया में प्रचार प्रसार किया जा रहा है कि भाजपा के 32 निर्वाचित प्रतिनिधियों में गुटबाजी शुरू हो गई है। उन्होंने कहा कि इस तरह का निराधार प्रचार करना दुर्भाग्यपूर्ण है। चिदानंद ने कहा कि पार्टी के अंदर ऐसे कोई मुद्दे नहीं हैं क्योंकि भाजपा के निर्वाचित प्रतिनिधि अभी भी अपने-अपने आवास पर हैं और उनमें से कुछ कुछ निजी कामों में लगे हुए हैं। उन्होंने लोगों से इस तरह के निराधार प्रचार पर विश्वास न करने की अपील की क्योंकि पार्टी के राष्ट्रीय पर्यवेक्षकों और चुनाव पर्यवेक्षकों के स्वागत समारोह की तरह विभिन्न गतिविधियों को पूरा किया जाना बाकी है।