पिछली भाजपा नीत सरकार में वरिष्ठ मंत्री टी. बिश्वजीत ने गुरुवार को इंफाल अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे पर संवाददाताओं से कहा कि नए मंत्रालय के गठन से पहले मणिपुर में नेतृत्व संकट अभी तक हल नहीं हुआ है। उन्होंने कहा कि दिल्ली में दो दिवसीय प्रवास के दौरान किसी भी राष्ट्रीय भाजपा नेता ने उनसे या कार्यवाहक मुख्यमंत्री एन. बीरेन सिंह से इस मामले पर चर्चा नहीं की।

ये भी पढ़ेंः 5 राज्यों में शर्मनाक हार से एक्शन में आई सोनिया गांधी, इन नेताओं को दिखाया बाहर का रास्ता


मीडिया के कुछ वर्गों में रिपोर्टों पर कि बीरेन सिंह को फिर से अगले मुख्यमंत्री के रूप में चुना गया, इस पर बिश्वजीत ने कहा, यह केवल अटकलें हैं। उन्होंने आगे कहा कि गतिरोध को हल करने के लिए पर्यवेक्षक निर्मला सीतारमन और सह-पर्यवेक्षक किरेन रिजिजू जल्द ही आ सकते हैं। उनकी रिपोर्ट के आधार पर उच्च अधिकारी इस मुद्दे पर निर्णय लेंगे। आलाकमान का निर्देश अंतिम होगा। आलाकमान द्वारा बुलाए जाने के बाद बीरेन सिंह और बिश्वजीत मंगलवार को इंफाल से चले गए। मणिपुर प्रदेश भाजपा अध्यक्ष ए. शारदा भी उनके साथ चार्टर्ड फ्लाइट से गए।

ये भी पढ़ेंः मणिपुर में शानदार जीत के बाद केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण और किरेन रिजिजू को भाजपा ने सौंपी ये बड़ी जिम्मेदार


हालांकि बिश्वजीत गुरुवार को एक व्यावसायिक उड़ान से लौटे। बीरेन सिंह और शारदा बाद में दूसरीउड़ान से लौटे। बिश्वजीत ने कहा कि वे मणिपुर में भाजपा के 32 विधायकों की जीत का जश्न मनाने के लिए दिल्ली गए थे। संकेत हैं कि पर्यवेक्षक शुक्रवार को यहां आकर 32 विधायकों से अलग-अलग मुलाकात कर उनकी राय जान सकते हैं।