राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद (President Ram Nath Kovind) ने सोमवार को राष्ट्रपति भवन में वर्ष 2022 के लिए आयोजित पद्म अलंकरण समारोह के पहले चरण में कोन्सम इबोमचा सिंह सहित विभिन्न क्षेत्रों में उल्लेखनीय योगादान करने वाले 64 लोगों को पद्म पुरस्कारों से अलंकृत किया। 

राष्ट्रपति कोविंद ने कला के क्षेत्र में उल्लेखनीय योगदान के लिए कोन्सम इबोमचा सिंह को पद्म श्री प्रदान किया। वह गुड़िया और खिलौने बनाने का काम करते हैं साथ ही मणिपुर के एक पारंपरिक शिल्प के विशेषज्ञ भी हैं। बता दें कि कोन्सम इबोमचा सिंह विभिन्न राष्ट्रीय प्रदर्शनियों में भाग लेने वाले, वह हस्तशिल्प में उनके योगदान के लिए मणिपुर राज्य पुरस्कार के प्राप्तकर्ता भी हैं।

यह भी पढ़ें- LPG Price Latest: घरेलू एलपीजी सिलेंडर आज से 50 रुपये महंगा

कोन्सम इबोमचा सिंह के इस शानदार उपलब्धि के लिए राज्य के मुख्यमंत्री एन. बीरेन सिंह ने बधाई दी है। बीरेन सिंह ने लिखा, 'श्री कोंसम इबोम्चा सिंह जी को 'कला' के लिए पद्म श्री पुरस्कार से सम्मानित किए जाने पर बधाई। राष्ट्रीय पुरस्कार विजेता माता-पिता के घर जन्मे, श्री कोन्सम इबोम्चा सिंह एक पारंपरिक लाईफदिबी गुड़िया निर्माता हैं, जिन्होंने एक सदी पुरानी गुड़िया बनाने की तकनीक को संरक्षित करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है।'

गौर हो कि राष्ट्रपति कोविंद ने सोमवार को राष्ट्रपति भवन में वर्ष 2022 के लिए आयोजित पद्म अलंकरण समारोह के पहले चरण में विभिन्न क्षेत्रों में उल्लेखनीय योगादान करने वाले 64 लोगों को पद्म पुरस्कारों से अलंकृत किया। इस वर्ष कुल 128 व्यक्तियों को इन पुरस्कारों के लिए चुना गया है। अलंकरण समारोह का दूसरा चरण 28 मार्च को आयोजित किया जाएगा। 

कोविंद के हाथों पद्म अलंकरण पाने वालों में पूर्व रक्षा प्रमुख (सीडीएस) जनरल बिपिन रावत (मरणोपरांत) और गीता प्रेस के दिवंगत अध्यक्ष राधे श्याम खेमका, कांग्रेस के नेता गुलाम नबी आजाद, टाटा संस के अध्यक्ष एन चंद्रशेखरन, भारतीय प्रशासनिक सेवा के पूर्व अधिकारी एवं कैग राजीव महर्षि, कोविशील्ड वैक्सीन बनाने वाली पुणे की कंपनी सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया के साइरस पूनावाला शामिल हैं। 

यह भी पढ़ें- स्पाइस जेट ने गुवाहाटी से दिल्ली और चेन्नई के लिए दो नई सीधी उड़ानें शुरू की

समारोह में दो हस्तियों को पद्म विभूषण, आठ को पद्म भूषण और 54 को पद्म श्री से अलंकृत किया गया है। सीडीएस रावत और खेमका को मरणोपरांत पद्म विभूषण से सम्मानित किया गया है। जनरल रावत का प्रशस्ति पत्र व आलंकरण उनकी बेटी कृतिका और तारिणी तथा खेमका का पुरस्कार उनके पुत्र कृष्ण कुमार ने राष्ट्रपति के हाथों प्राप्त किया। 

आजाद, महर्षि, पुनावाला, चंद्रशेखरन, पंजाबी लोक गायक गुरमीत बावा (मरणोपरांत), देवेन्द्र झाझरिया, राशिद खान और सच्चिदानन्द स्वामी को पद्म भूषण से सम्मानित किया गया। इस वर्ष दिए जाने वाले 128 पद्म पुरस्कारों में चार पद्म विभूषण, 17 पद्म भूषण और 107 पद्मश्री पुरस्कार शामिल हैं। जिनमें 34 महिलायें तथा 10 विदेशी चुने गए हैं। इनके अलावा 13 लोगों को मरणोपरान्त पुरस्कार दिये जायेंगे।