मणिपुर के राज्यपाल ला गणेशन और मुख्यमंत्री एन बीरेन सिंह ने सोमवार को ईद-उल-फितर की पूर्व संध्या पर मुस्लिम धर्मावलंबियों को बधाई दी। गणेशन ने कहा, एक महीने के उपवास की अवधि ‘रमजान’ के बाद आने वाला यह पवित्र त्योहार न केवल शांति, भाईचारे और सार्वभौमिक प्रेम का संदेश फैलाता है, बल्कि मानव जाति से यह आग्रह भी करता है कि अपनी आत्माओं की उन्नति के लिए सकारात्मक मूल्य वाले कार्य करें। 

ये भी पढ़ेंः HC ने म्यांमार के नागरिक को दी जमानत, मणिपुर सरकार ने फिर हिरासत में रखने का जारी किया फरमान


उन्होंने आगे कहा कि इस त्योहार से जुड़ा संदेश वर्तमान उथल-पुथल भरी दुनिया में सबसे अधिक प्रासंगिक है। ईद-उल-फितर जैसे त्योहारों को मनाते हुए आइए हम एकता की भावना को मजबूत करें और यदि कोई भी दुर्भावना हो तो उसे या तो भुला दें या माफ कर दें। हम यह भी याद रखें कि हम सभी मनुष्य जो केवल एक ग्रह और दुनिया में निवास करते हैं, एक ही परिवार हैं और किसी भी संघर्ष को शांतिपूर्ण तरीके से सुलझाने की जरूरत है। 

ये भी पढ़ेंः केंद्रीय मंत्री किशन रेड्डी आज करेंगे मणिपुर का दौरा, इम्फाल को देंगे कई सौगात


सिंह ने कहा, ईद-उल-फितर रमजान के पवित्र महीने के अंत और इस्लामिक कैलेंडर के दसवें महीने शव्वाल की शुरुआत का प्रतीक है। एक महीने के संयम और अल्लाह की दुआ के बाद, यह त्योहार मुसलमानों को खुद को उन सभी चीजों से पुरस्कृत करने की अनुमति देता है जो उन्होंने एक माह पहले से अपनी आस्था के नाम पर छोड़ रखा था। यह करुणा और दान की भावना में अटल विश्वास की भी पुष्टि करता है। उन्होंने कहा, ईश्वर से कामना करता हूं कि ईद-उल-फितर से संबंधित महान आदर्श हमारे जीवन को शांति, समृद्धि और मानवता की भावना से समृद्ध करें।