विधानसभा चुनाव (Assembly elections 2022) अगले महीने फरवरी में होंगे, इससे पहले रातनीतिक पार्टियों में घमासान चल रहा है। भाजपा कांग्रेस कई नेता पार्टियों की अदला बदली करने में लगे हुए हैं। जनता से कई वादे और लुभाने के लिए कई तरह की रणनीतियां बना रहे हैं। इसी तरह से मणिपुर में विधानसभा चुनाव से पहले ही राज्य का एक निर्दलीय विधायक जनता दल (यूनाइटेड) (JD(U) में शामिल हो गए हैं।

मणिपुर के जिरीबाम निर्वाचन क्षेत्र के एक निर्दलीय विधायक अशब उद्दीन (Ashab Uddin) ने (JD(U) में शामिल होने से पहले मणिपुर के अध्यक्ष वाई. खेमचंद सिंह (Y. Khemchand Singh) को अपना इस्तीफा सौंप दिया। अशब उद्दीन ने कहा कि वह मणिपुर और विशेष रूप से जिरीबाम के लोगों के लिए बिना किसी रुकावट के काम करने के लिए पार्टी में शामिल हुए, जो एक निर्दलीय विधायक के रूप में असंभव था।

अशब उद्दीन (Ashab Uddin) ने कहा कि "मेरा मानना ​​है कि जद (यू) के अध्यक्ष ललन सिंह और नीतीश कुमार के गतिशील नेतृत्व में मैं मणिपुर और जिरीबाम में एक बड़ा बदलाव लाने में सक्षम होऊंगा।" जिरीबाम निर्वाचन क्षेत्र दक्षिण असम के कछार जिले की सीमा में है।

अशब उद्दीन उन दो विधायकों में से एक थे जिन्होंने 2017 के विधानसभा चुनावों के बाद मणिपुर में सरकार बनाने का दावा पेश करते हुए भाजपा का समर्थन किया था। इससे पहले बुधवार को कांग्रेस के निलंबित विधायक ख जॉयकिशन सिंह इंफाल में जद (यू) में शामिल हो गए।

जॉयकिशन मणिपुर के इंफाल पश्चिम जिले के थंगमीबंद विधानसभा ( Thangmeiband assembly constituency) क्षेत्र से कांग्रेस के मौजूदा विधायक हैं। 18 जनवरी को, जॉयकिशन को एमपीसीसी की अनुशासनात्मक कार्रवाई समिति की सिफारिश पर पार्टी से निलंबित कर दिया गया था। मणिपुर की 60 विधानसभा सीटों के लिए 27 फरवरी और 3 मार्च को मतदान होगा।