पूर्वोत्तर राज्य मणिपुर में विधानसभा चुनाव 2022 के लिए भाजपा ने 60 सीटों पर अपने उम्मीदवारों की लिस्ट की घोषणा कर दी है। उन्होंने नए चेहरों के साथ साथ मुख्यमंत्री सहित कई नेताओं को भी चुनाव में किस्मत आजमाने का मौका दिया है। इस कड़ी में कैंडिडेट्स की लिस्ट जारी होते ही मणिपुर के सूचना और जनसंपर्क मंत्री और भाजपा के वरिष्ठ नेता थोंगम बिस्वजीत सिंह (Thongam Biswajit Singh) का लोगों के प्रति प्यार उमड़ कर सामने आया है।


कांग्रेस पर तीखा हमला करते हुए थोंगम बिस्वजीत सिंह (Biswajit Singh) ने कहा कि कांग्रेस (Congress) एक ध्वस्त गढ़ है और यह अब भाजपा के लिए कोई चुनौती नहीं है। कांग्रेस अतीत की पार्टी है और भविष्य की कोई उम्मीद नहीं है। यही कारण है कि निर्वाचित विधायकों सहित कई संभावित नेताओं ने पार्टी छोड़ दी है और यह अब मणिपुर (Manipur) में एक निर्जन पार्टी है। जो लोग इस समय कांग्रेस में हैं, वे भी इस बात को लेकर निश्चित नहीं हैं कि वे कितने समय तक पार्टी में रहेंगे।

थोंगम बिस्वजीत सिंह ने AFSPA को लेकर कहा कि “ सशस्त्र बल (विशेष अधिकार) अधिनियम (AFSPA) एक लंबे समय से संबंधित मुद्दा है और किसी भी राजनीतिक दल को चुनाव के समय लोगों की भावनाओं के साथ खिलवाड़ नहीं करना चाहिए। कांग्रेस के शासन के दौरान, वे चुनाव के लिए इस तरह के मुद्दों का फायदा उठाते थे। मैं व्यक्तिगत रूप से महसूस करता हूं कि अफस्पा को हटाया जाना चाहिए ”।

उन्होंने आगे कहा कि “यह उत्तर-पूर्वी क्षेत्र में एक लंबे समय से संबंधित मुद्दा है। चुनाव के दौरान किसी भी राजनीतिक दल को इस मुद्दे को लेकर लोगों की भावनाओं के साथ खिलवाड़ नहीं करना चाहिए। हालांकि, अंतिम निर्णय लेने से पहले एक अनुकूल माहौल भी बनाने की जरूरत है। AFSPA को रखना या हटाना, किसी भी तरह से, यह राज्य के हित और राष्ट्र और लोगों के हित के खिलाफ भी नहीं होना चाहिए ”।
उल्लेखनिय है कि नागालैंड (Nagaland killing) के मोन जिले में गोलीबारी की घटना के बाद, जहां पिछले साल 4 और 5 दिसंबर को सुरक्षा बलों की गोलीबारी में 14 नागरिक मारे गए थे, उत्तर-पूर्वी क्षेत्र में AFSPA हटाने की जोरदार मांग की गई है और इस मुद्दे को मणिपुर में विधानसभा चुनाव प्रचार के दौरान विपक्ष और भाजपा के सहयोगी दलों सहित कई राजनीतिक दलों ने उठाया है।