मणिपुर के मुख्य चुनाव अधिकारी राजेश अग्रवाल ने गुरुवार को कहा कि मणिपुर के 11 जिलों में कुल 529 मतदान केंद्रों का प्रबंधन विशेष रूप से महिला मतदान कर्मचारियों और कर्मियों द्वारा किया जाएगा ।

सीईओ के अनुसार, इम्फाल पूर्व में 130, चुराचांदपुर में 110, थौबल में 71, इंफाल पश्चिम में 53, बिष्णुपुर में 50, उखरूल में 45, तामेंगलोंग में 33,  चंदेल में 20 , कांगपोकपी में नौ, जिरीबाम में पांच और सेनापति जिले में तीन ऐसे मतदान केंद्र स्थापित करने का प्रस्ताव है।

यह भी पढ़े : Rashifal February 11 : इन राशि वालों के लिए शुभ नहीं है ग्रहों की स्थिति , आज करें काली वस्तु का दान

उन्होंने कहा कि इन मतदान केंद्रों पर महिला मतदान कर्मी और महिला सुरक्षाकर्मी तैनात रहेंगे।

उन्होंने कहा कि 28 फरवरी और 5 मार्च को मणिपुर विधानसभा के आगामी चुनाव के लिए कुल 2,968 मतदान केंद्र बनाए जाएंगे। राज्य में मतदान के दिनों में कुल 115 मॉडल मतदान केंद्र बनाए जाएंगे।

यह भी पढ़े :  Name Astrology: जिन लड़कों का नाम इस अक्षर से शुरू होता है वो अच्छे लव पार्टनर साबित होते हैं, पत्नी को रखते हैं सिर-आंखों पर


अग्रवाल ने यह भी कहा कि मुख्य चुनाव आयुक्त (सीईसी) सुशील चंद्रा ने राज्य के दौरे के दौरान चुनावी तैयारियों की समीक्षा करने की पहल पर संतोष व्यक्त किया था।

सीईओ ने कहा - चुनाव आयोग ने किसी भी आपात स्थिति के मामले में, चार पहाड़ी जिलों में 83 मतदान केंद्रों के लिए एयरलिफ्टिंग योजना की व्यवस्था करने का निर्णय लिया है।  उन्होंने बताया कि 83 मतदान केंद्रों में से चुराचांदपुर में 30, चंदेल में 20, तामेंगलोंग में 17 और उखरूल जिले के 16 स्टेशनों को एयरलिफ्टिंग सुविधा के लिए चुना गया है.

”अग्रवाल ने आगे कहा की किसी भी आपात स्थिति के मामले में, ईवीएम / वीवीपैट मशीनों के साथ पीठासीन अधिकारियों को ऐसे चिन्हित मतदान केंद्रों से एयरलिफ्ट किया जाएगा। इसके अलावा, आपात स्थिति / हताहत होने की स्थिति में किसी भी व्यक्ति को एयरलिफ्ट करने के लिए एक एयर एम्बुलेंस तैनात की जाएगी।