भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा (jp nadda) ने शुक्रवार को यहां कहा कि भारत एक मजबूत देश बन गया है, देश की सीमाएं पूरी तरह से सुरक्षित हैं और सरकारी योजनाओं का लाभ देश के हर व्यक्ति को मिल रहा है। मणिपुर में आगामी कुछ महीनों में विधानसभा चुनाव (Manipur Assembly Elections) होने वाले हैं और नड्डा इसी सिलसिले में गुरुवार को यहां पहुंचे। 

नड्डा ने चुनाव को लेकर पार्टी नेताओं के साथ सिलसिलेवार बैठकें की। इसके अलावा उन्होंने गांवों में चुनाव प्रचार के दौरान खिलाड़ियों और पूर्व सैनिकों के साथ मुलाकात की तथा संविधान दिवस के मौके पर आयोजित कार्यक्रम में भी शामिल हुए। इस दौरान उन्होंने असम राइफल्स (Attack on Assam Rifles) के काफिले पर चूड़ाचंद में हुए उग्रवादी हमले की निंदा की, जिसमें पांच सैनिक शहीद हो गये थे तथा असम राइफल (Assam Rifles) के सीओ के परिवार को दो सदस्यों की मौत हो गई थी। उन्होंने कहा कि सैनिकों की शहादत बेकार नहीं जाएगी।

उन्होंने सुरक्षा बलों के जवानों पर हमले की घटना को कायरतापूर्ण करतूत बताया। भाजपा अध्यक्ष ने पूर्व सैनिकों के कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कहा कि इस समारोह में उपस्थित सभी लोगों ने विभिन्न जगहों पर कठिन परिस्थियों में काम किया है। हमारा देश सुरक्षा बलों के जवानों की सेवा को हमेशा याद रखेगा। उन्होंने कहा कि मणिपुर ने सेना को गौरवान्वित किया है। मणिपुर के प्रत्येक परिवार से एक सदस्य सेना में है। मणिपुर (JP Nadda in Manipur) के दो लेफ्टिनेंट जनरल रहे हैं तथा सेना में कई ऐसे जवान है, जिन्हें विभिन्न शीर्ष पुरस्कारों से सम्मानित किया गया है। उन्होंने कहा कि नरेंद्र मोदी सरकार के गठन के बाद रक्षा क्षेत्र में बदलाव आया है। 

नड्डा ने कहा, हम दुश्मनों के साथ आंख से आंख मिलाकर बात करेंगे, न कि देश का सिर या आंख झुकने देंगे। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री के नेतृत्व में भारतीय सेना ने हवाई हमला और सर्जिकल स्ट्राइक किया। इससे पहले जब हमारी सीमाओं पर हमले होते थे, तो सेना के जवान अनुमति के लिए इंतजार करते थे। अब जब हमले होते हैं, तो सैनिकों को यह आदेश है कि लड़ो और दुश्मनों को मार डालो, किसी को भी आदेश की जरूरत नहीं है। उन्होंने कहा कि देश में वन रैंक वन पेंशन (One Rank One Pension) की 1972 से हो रही था, लेकिन कोई जवाब नहीं मिली। पूर्व वित्तमंत्री पी. चिदंबरम पूर्व सैनिकों की मांगों को पूरा नहीं कर सके, लेकिन हमारी सरकार ने पूर्व सैनिकों की मांगों को पूरा किया और उनकी बकाया राशि का भुगतान करने के लिए 42000 करोड़ रुपये मंजूर किये। उन्होंने कहा कि सैनिकों के पास बुलेट प्रूफ जैकेट नहीं थे, लेकिन अब मोदी सरकार ने 1.86 लाख बुलेट प्रूफ जकैट, 36 राफेल लड़ाकू विमान, 28 अपाचे हेलिकॉप्टर और अन्य हथियार इजरायल तथा अन्य देशों से मंगाने का फैसला किया है। 

नड्डा ने कहा कि पूर्ववर्ती सरकार बिना किसी धांधली के किसी भी हथियार की खरीद नहीं करती थी। मोदी सरकार के आने के बाद हमलों में आम नागरिकों के मारे जाने की घटनाओं में 79 प्रतिशत और सैनिकों में 23 फीसदी की गिरावट आयी है। उन्होंने कहा कि पूर्ववर्ती सरकार के समय में सीमा पर सड़कें नहीं थी। दुश्मनों के हमलों का जवाब नहीं दिया जाता था। अब मोदी सरकार ने फैसला किया है कि 24 घंटे में सीमा पर पहुंचेंगे। पुलों और सड़कों का निर्माण किया गया है, ताकि सेना के जवान आसानी से एक जगह से दूसरे जगह पहुंच सकें। उन्होंने कहा कि भारत और चीन के बीच तनाव के दौरान सेना के जवान सूचना मिलने के तुरंत बाद मौके पर पहुंचने में सक्षम थे। चीन के साथ लगी सीमा पर काम जारी है, जिनमें संवेदनशील क्षेत्र भी शामिल हैं। उन्होंने कहा कि मोदी की घोषणा के मुताबिक सेना के जवान दुश्मनों के हमलों का मुंहतोड़ जवाब देंगे।