पूर्वोत्तर राज्य मणिपुर के रास्ते म्यांमार से भारत में हेरोइन आ रही है। म्यांमार से मणिपुर, असम व अरुणाचल प्रदेश भेजा जाता है। इन राज्यों से हेरोइन को भारत के अन्य हिस्सों में भेजा जाता है। ये खुलासा मादक पदार्थ तस्कर अखिलेश कुमार रे (39) ने किया है। स्पेशल सेल ने मादक पदार्थों की तस्करी करने वाले इस अंतरराष्ट्रीय गिरोह का पर्दाफाश कर गिरोह के मुख्य मादक पदार्थ तस्कर अखिलेश कुमार रे (39) को गिरफ्तार किया है। 

यह भी पढ़े : सुप्रीम कोर्ट की सख्त टिप्पणी : चुनावों के दौरान किए जाने वाले मुफ्त सुविधाओं के वादे अर्थव्यवस्था के लिए गंभीर

इसके कब्जे से बढ़िया क्वालिटी की चार किलो हेरोइन बरामद की गई है। अंतरराष्ट्रीय बाजार में बरामद हेरोइन की कीमत करीब 20 करोड़ रुपये बताई जा रही है। आरोपी दिल्ली, एनसीआर, यूपी के कुछ हिस्सों, बिहार व झारखंड में पिछले सात वर्षों से हेरोइन की सप्लाई कर रहा था। स्पेशल सेल के पुलिस अधिकारियों के अनुसार स्पेशल सेल की सूचना मिली थी कि मादक पदार्थों की तस्करी करने वाला अंतरराष्ट्रीय गिरोह मणिपुर, असम, यूपी, बिहार व दिल्ली में सक्रिय है। 

इस गिरोह के सदस्य म्यांमार से हेरोइन मणिपुर लाते हैं और फिर भारत के अन्य हिस्सों में सप्लाई करते हैं। करीब चार महीने की जांच के बाद इंस्पेक्टर शिव कुमार को नौ अगस्त को सूचना मिली थी कि छपरा, बिहार निवासी अखिलेश कुमार रे ने बिहार से हेरोइन की बड़ी खेप ली है और उसे देने ईडीएम मॉल, गाजीपुर रोड पर शाम के समय आएगा। एसीपी अत्तर सिंह की देखरेख में इंस्पेक्टर शिवकुमार, जितेंद्र मावी व एसआई राजेश शर्मा की टीम ने ईडीएम मॉल के पास घेराबंदी कर अखिलेश रे को गिरफ्तार कर लिया। इसके बैग से चार किलो हेरोइन बरामद की गई।

ये भी पढ़ेंः ईसाई मिशनरी स्कूल में राखियां उतरवाकर कूड़ेदान में फेंका, मचा बवाल

स्पेशल सेल डीसीपी जसमीत सिंह के अनुसार आरोपी अखिलेश रे ने पूछताछ में बताया कि वह मादक पदार्थों की तस्करी करने वाले बड़े अंतरराष्ट्रीय गिरोह को सदस्य है। वह पिछले सात वर्षों से दिल्ली-एनसीआर, यूपी के कुछ हिस्सों, बिहार व झारखंड में सात वर्षों से सप्लाई कर रहा था। वह हेरोइन की खेप हाजीपुर, बिहार स्थित एक व्यक्ति से लेता था। वह अपने दो साथियों के साथ मणिपुरी से मुल्लाजी से हेरोइन की खेप लेता था। मुल्लाजी हेरोइन की बड़े सप्लायर है। उस व्यक्ति के म्यांमार में संबंध है।