मणिपुर और नगालैंड के जंगलों में भीषण आग लग गई है जिसको बुझाने के लिए भारतीय वायु सेना ने मिशन पर विमान भेजे हैं। यह आग नगालैंड की राजधानी कोहिमा के निकट स्थित ज़ुकोऊ घाटी में लगी है। ज़ुकोऊ घाटी मणिपुर और नगालैंड राज्य की सीमाओं पर स्थित है। यह घाटी अपनी वाइल्डलाइफ के लिए बेहद संवेदनशील है। जुकोऊ घाटी को फूलों की घाटी भी कहा जाता है। दोनों राज्य की सरकारों के अनुरोध पर भारतीय वायुसेना द्वारा एमआई19वी5 विमान तैनाती कि गए हैं जिससे आग को काबू में करने की कोशिश की जा रही है।

आपको बता  दें कि शुक्रवार की रात भारतीय सेना द्वारा वायुसेना के सी130जे हरक्यूलिस विमान द्वारा भी 9 टन सामान के साथ एनडीआरएफ के 48 जवानों को गुवाहाटी से नगालैंड के शहर दीमापुर भेज दिया गया है, ताकि आग को जल्दी से जल्दी काबू में किया जा सकेण् आग की स्थिति का अनुमान लगाने के बाद भारतीय वायु सेना तीन और हेलीकॉप्टरों की तैनाती कर रही है जो आग बुझाने के संसाधनों से सुसज्जित हैं। आपको बता दें जुकोऊ घाटी नगालैंड की राजधानी कोहिमा से मात्र 30 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। यहां पर नगालैंड राज्य की स्टेट बर्ड बेलीथ ट्रगोपैन भी बड़ी मात्रा में पाई जाती है।

फैलती जा रही आग को काबू में पाने के लिए मणिपुर के मुख्यमंत्री एन. बीरेन सिंह ने असम राइफल से लेकर आर्मी और एनडीआरएफ से मदद मांगी है। शुक्रवार के दिन एक ट्वीट करके मुख्यमंत्री एन. बीरेन सिंह ने जानकारी दी कि गृहमंत्री अमित शाह ने उन्हें आग से निपटने में मदद करने लिए आश्वासन दिया है। मणिपुर के मुख्यमंत्री ने लिखा अभी भी गृहमंत्री अमित शाह जी से कॉल प्राप्त हुईण् अमित शाह ने जुकोऊ घाटी में लगी आग को लेकर चर्चा की। अमित शाह ने आग की स्थिति को जल्द से जल्द काबू में करने के लिए गृह मंत्रालय से सभी प्रकार की आवश्यक सहायता प्रदान करने का आश्वासन दिया है।