भाजपा देश विधानसभा चुनाव (Assembly election) से पहले टिकट के बंटवारे को लेकर बगावत का सामना करना पड़ रहा है। कई बागी नेताओं ने निर्दलय चुनाव लड़ने का ऐलान भी कर दिया है। जिससे वोटर्स का बंटवारा हो रहा है। इस बगावत को खत्म करने के लिए मणिपुर में भाजपा ने चौंका देने वाली पहल की है।  


 
दरअसल, मणिपुर भाजपा, राज्य में विधानसभा चुनाव (Assembly election 2022) से पहले संभावित उम्मीदवारों द्वारा पार्टी का परित्याग रोकने के उपाय के रूप में एक अनूठा 'समझौता' लेकर आई है। मणिपुर भाजपा (Manipur BJP) ने चुनाव से पहले अपनी निष्ठा बदलने से रोकने के लिए संभावित पार्टी उम्मीदवारों के साथ "सहयोग के समझौते (Agreement of Cooperation)" पर हस्ताक्षर किए हैं।

केसामथोंग और सुगनू विधानसभा क्षेत्रों से भाजपा पार्टी के संभावित उम्मीदवारों ने कथित तौर पर इस "सहयोग के समझौते" पर हस्ताक्षर किए। जानकारी के लिए बता दें कि मणिपुर की 60 सीटों वाली विधानसभा के लिए दो चरणों में चुनाव होंगे- 27 फरवरी और 3 मार्च है।


 

भाजपा नेता सीएच बिजॉय (CH Bijoy) ने कहा कि "पार्टी ने मुख्यमंत्री बीरेन सिंह (Biren Singh) की उपस्थिति में कई संभावित उम्मीदवारों के साथ सहयोग के समझौते पर हस्ताक्षर किए हैं, ताकि वे विकासशील राजनीतिक परिदृश्य के बीच पक्ष न बदलें।"