मणिपुर विधानसभा के अध्यक्ष वाई. खेमचंद ने कांग्रेस छोड़कर भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) में शामिल हुए सात विधायकों को अयोग्य ठहराये जाने के मामले में शुक्रवार को फैसला सुरक्षित रख लिया।


अध्यक्ष के न्यायाधिकरण ने इस मामले को अपने अधिकार में लेकर दोनों पक्षों के बयान दर्ज किए।


पार्टी छोड़कर भाजपा का दामन थामने वाले विधायकों के खिलाफ कांग्रेस ने इन्हें अयोग्य ठहराने को लेकर मामला दर्ज कराया है।